La Bible du Semeur

Lamentations 4:1-22

Quatrième élégie : la déchéance de Sion

Le peuple est brisé

1Comment4.1 Autre traduction : hélas ! ! L’or s’est terni !

L’or pur s’est altéré !

Les pierres saintes4.1 Selon certains, des pierres précieuses qui avaient fait partie du trésor du Temple. Pour d’autres, un symbole du peuple de Dieu (voir v. 2). |ont été dispersées

à tous les coins de rues !

2Comment se fait-il donc |que les précieux fils de Sion

estimés comme de l’or fin

soient maintenant considérés |comme des pots d’argile,

ouvrages d’un potier4.2 Voir Jr 18 et 19. ?

3Regardez les chacals : |voyez comment les mères

allaitent leurs petits |en tendant leur mamelle.

La communauté de mon peuple |est devenue aussi cruelle

que les autruches du désert4.3 Sur l’autruche cruelle, voir Jb 39.14-16..

4La langue du bébé

s’attache à son palais, |tellement il a soif.

Les tout petits enfants |réclament quelque nourriture

et nul ne leur en donne.

5Ceux qui, auparavant, |mangeaient des mets exquis,

expirent dans les rues,

et ceux qui ont été |élevés dans la pourpre

se couchent maintenant |sur un tas de fumier.

6La communauté de mon peuple |a commis un péché

plus grand que celui de Sodome4.6 Sur Sodome, voir Gn 19.24-25 et Jr 23.14 ; 49.18 ; 50.40.

qui a été anéantie |en un instant,

et sans qu’un homme |porte la main contre elle4.6 Autre traduction : sans que quelqu’un se donne la peine de la secourir..

7Les princes de Sion, |ils étaient plus purs que la neige

et plus blancs que du lait,

leurs corps étaient vermeils |bien plus que le corail,

leurs veines de saphir.

8Leur aspect est plus sombre, |à présent, que la suie,

nul ne les reconnaît |maintenant dans les rues.

La peau leur colle aux os,

elle est devenue sèche |comme du bois.

9Les victimes du glaive |sont plus heureuses

que les victimes |de la famine :

celles-ci dépérissent, |tenaillées par la faim,

car les produits des champs |leur font défaut.

10De tendres femmes, |de leurs mains ont fait cuire

la chair de leurs enfants

pour s’en nourrir,

à cause du désastre |qui a atteint |la communauté de mon peuple4.10 Voir 2 R 6.28-29..

Le juste jugement de Dieu

11L’Eternel a assouvi son courroux.

Oui, il a déversé |son ardente colère,

il a allumé un feu dans Sion

qui en a consumé les fondations.

12Aucun roi de la terre

ni aucun habitant du monde |n’a cru que l’adversaire,

que l’ennemi, |pourrait franchir

les portes de Jérusalem.

13Cela est arrivé |à cause des péchés |de ses prophètes

et des fautes des prêtres

qui répandaient au milieu d’elle

le sang des justes.

14Mais maintenant, |ils errent dans les rues |tout comme des aveugles,

ils sont souillés de sang

si bien que l’on ne peut

toucher leurs vêtements.

15« Allez-vous en, impurs, |voilà ce qu’on leur crie.

Hors d’ici, hors d’ici, |et ne nous touchez pas ! »

Et lorsqu’ils fuient ainsi |en errant çà et là, |les gens des autres peuples disent :

« Qu’ils ne restent pas en ce lieu4.15 Voir Lv 13.45. ! »

16L’Eternel en personne |les a disséminés,

il ne veut plus les voir.

On n’a pas respecté les prêtres

ni eu d’égards |pour les responsables du peuple4.16 Autre traduction : les vieillards..

L’heure de l’abandon

17Nos yeux se consument encore

dans l’attente d’une aide, |mais c’est en vain.

De nos postes de guet |nous attendions une nation

qui ne nous a pas secourus4.17 Probablement l’Egypte (voir Jr 29.16 ; 37.5-10)..

18Nos ennemis épient |la trace de nos pas,

et nous ne pouvons plus |circuler dans nos rues,

notre fin est prochaine, |nos jours sont à leur terme.

Oui, notre fin arrive.

19Ceux qui nous poursuivaient |ont été plus rapides

que l’aigle dans le ciel.

Ils nous ont pourchassés |avec acharnement |sur les montagnes,

ils se sont embusqués |contre nous au désert.

20Le roi qui de la part de l’Eternel |avait reçu l’onction4.20 Il s’agit de Sédécias (2 R 25.1-6 ; Jr 39.4-7 ; 52.6-11)., |et dont dépendait notre vie,

a été capturé |grâce à leurs pièges,

alors que nous disions :

« Nous vivrons sous sa protection |au milieu des nations. »

21Tu peux être ravie, |communauté d’Edom, |et exulter4.21 Lorsque Jérusalem est tombée, les Edomites ont participé à son pillage (Ez 25.12-14).,

toi qui habites |au pays d’Outs4.21 Outs : pays à l’est du Jourdain, peut-être Edom, au sud-est de la mer Morte (Gn 36.28 ; voir Jb 1.1 et note). :

à toi aussi, |on passera la coupe,

tu seras enivrée |et tu te mettras toute nue.

22Ton châtiment aura sa fin, |ô communauté de Sion,

Dieu ne te déportera plus.

Communauté d’Edom, |il te fera payer tes fautes,

et il fera paraître |tes péchés au grand jour.

Hindi Contemporary Version

विलापगीत 4:1-22

बिखरा हुआ पवित्र पत्थर

1सोना खोटा कैसे हो गया,

सोने में खोट कैसे!

हर एक गली के मोड़ पर

पवित्र पत्थर बिखरे पड़े हैं.

2ज़ियोन के वे उत्कृष्ट पुत्र,

जिनका मूल्य उत्कृष्ट स्वर्ण के तुल्य है,

अब मिट्टी के पात्रों-सदृश कुम्हार की,

हस्तकृति माने जा रहे हैं!

3सियार अपने बच्चों को

स्तनपान कराती हैं,

किंतु मेरी प्रजा की पुत्री क्रूर हो चुकी है,

मरुभूमि के शुतुरमुर्गों के सदृश.

4अतिशय तृष्णा के कारण दूधमुंहे शिशु की जीभ

उसके तालू से चिपक गई है;

बालक भोजन की याचना करते हैं,

किंतु कोई भी भोजन नहीं दे रहा.

5जिनका आहार उत्कृष्ट भोजन हुआ करता था

आज गलियों में नष्ट हुए जा रहे हैं.

जिनके परिधान बैंगनी वस्त्र हुआ करते थे,

आज भस्म में बैठे हुए हैं.

6मेरी प्रजा की पुत्री पर पड़ा अधर्म

सोदोम के दंड से कहीं अधिक प्रचंड है,

किसी ने हाथ तक नहीं लगाया

और देखते ही देखते उसका सर्वनाश हो गया.

7उस नगरी के शासक तो हिम से अधिक विशुद्ध,

दुग्ध से अधिक श्वेत थे,

उनकी देह मूंगे से अधिक गुलाबी,

उनकी देह रचना नीलम के सौंदर्य से भी अधिक उत्कृष्ट थी.

8अब उन्हीं के मुखमंडल श्यामवर्ण रह गए हैं;

मार्ग चलते हुए उन्हें पहचानना संभव नहीं रहा.

उनकी त्वचा सिकुड़ कर अस्थियों से चिपक गई है;

वह काठ-सदृश शुष्क हो चुकी है.

9वे ही श्रेष्ठतर कहे जाएंगे, जिनकी मृत्यु तलवार प्रहार से हुई थी,

उनकी अपेक्षा, जिनकी मृत्यु भूख से हुई;

जो घुल-घुल कर कूच कर गए

क्योंकि खेत में उपज न हो सकी थी.

10ये उस करुणामयी माताओं के ही हाथ थे,

जिन्होंने अपनी ही संतान को अपना आहार बना लिया,

जब मेरी प्रजा की पुत्री विनाश के काल में थी

ये बालक उनका आहार बनाए गए थे.

11याहवेह ने अपने कोप का प्रवाह पूर्णतः

निर्बाध छोड़ दिया.

उन्होंने अपना भड़का कोप उंडेल दिया और फिर उन्होंने ज़ियोन में ऐसी अग्नि प्रज्वलित कर दी,

जिसने इसकी नीवों को ही भस्म कर दिया.

12न तो संसार के राजाओं को,

और न ही पृथ्वी के निवासियों को इसका विश्वास हुआ,

कि विरोधी एवं शत्रु येरूशलेम के

प्रवेश द्वारों से प्रवेश पा सकेगा.

13इसका कारण था उसके नबियों के पाप

तथा उसके पुरोहितों की पापिष्ठता,

जिन्होंने नगर के मध्य ही

धर्मियों का रक्तपात किया था.

14अब वे नगर की गलियों में दृष्टिहीनों-सदृश भटक रहे हैं;

वे रक्त से ऐसे दूषित हो चुके हैं

कि कोई भी उनके वस्त्रों का

स्पर्श करने का साहस नहीं कर पा रहा.

15उन्हें देख लोग चिल्ला उठते है, “दूर, दूर अशुद्ध!

दूर, दूर! मत छूना उसे!”

अब वे छिपते, भागते भटक रहे हैं,

राष्ट्रों में सभी यही कहते फिरते हैं,

“अब वे हमारे मध्य में निवास नहीं कर सकते.”

16उन्हें तो याहवेह ने ही इस तरह बिखरा दिया है;

अब वे याहवेह के कृपापात्र नहीं रह गए.

न तो पुरोहित ही सम्मान्य रह गए हैं,

और न ही पूर्वज किसी कृपा के योग्य.

17हमारे नेत्र दृष्टिहीन हो गए,

सहायता की आशा व्यर्थ सिद्ध हुई;

हमने उस राष्ट्र से सहायता की आशा की थी,

जिसमें हमारी सहायता की क्षमता ही न थी.

18उन्होंने इस रीति से हमारा पीछा करना प्रारंभ कर दिया,

कि मार्ग पर हमारा आना-जाना दूभर हो गया;

हमारी मृत्यु निकट आती गई, हमारा जीवनकाल सिमटता चला गया,

वस्तुतः हमारा जीवन समाप्त ही हो गया था.

19वे, जो हमारा पीछा कर रहे थे,

उनकी गति आकाशगामी गरुड़ों से भी द्रुत थी;

उन्होंने पर्वतों तक हमारा पीछा किया

और निर्जन प्रदेश में वे हमारी घात में रहे.

20याहवेह द्वारा अभिषिक्त, हमारे जीवन की सांस

उनके फन्दों में जा फंसे.

हमारा विचार तो यह रहा था,

कि उनकी छत्रछाया में हम राष्ट्रों के मध्य निवास करते रहेंगे.

21एदोम की पुत्री, तुम, जो उज देश में निवास करती हो,

हर्षोल्लास में मगन हो जाओ.

प्याला तुम तक भी पहुंचेगा;

तुम मदोन्मत्त होकर पूर्णतः निर्वस्त्र हो जाओगी.

22ज़ियोन की पुत्री, निष्पन्न हो गया तुम्हारी पापिष्ठता का दंड;

अब वह तुम्हें निर्वासन में रहने न देंगे.

किंतु एदोम की पुत्री, वह तुम्हारी पापिष्ठता को दंडित करेंगे,

वह तुम्हारे पाप प्रकट कर सार्वजनिक कर देंगे.