Saral Hindi Bible

इफ़ेसॉस 2

मसीह येशु में उद्धार एक वरदान

1तुम अपने अपराधों और पापों में मरे हुए थे, जिनमें तुम पहले इस संसार के अनुसार और आकाशमण्डल के अधिकारी, उस आत्मा के अनुसार जी रहे थे, जो आत्मा अब भी आज्ञा न माननेवालों में काम कर रहा है. एक समय था जब हम भी इन्हीं में थे और अपनी वासनाओं में लीन रहते थे, शरीर और मन की अभिलाषाओं को पूरा करने में लगे हुए अन्यों के समान क्रोध की सन्तान थे परन्तु दया में धनी परमेश्वर ने अपने अपार प्रेम के कारण, जब हम अपने अपराधों में मरे हुए थे, मसीह में हमें जीवित किया—उद्धार तुम्हें अनुग्रह ही से प्राप्त हुआ है. परमेश्वर ने हमें मसीह येशु में जीवित किया और स्वर्गीय राज्य में उन्हीं के साथ बैठाया; कि वह आने वाले समयों में अपने अनुग्रह का उत्तम धन मसीह येशु में हमारे लिए की गई कृपा में दिखा सकें क्योंकि अनुग्रह ही से, विश्वास के द्वारा तुम्हें उद्धार प्राप्त हुआ है. इसके कारण तुम नहीं, यह परमेश्वर का वरदान है और यह कामों का प्रतिफल नहीं है कि कोई घमण्ड़ करे, 10 क्योंकि हम परमेश्वर द्वारा पहले से ठहराए हुए भले कामों के लिए मसीह में रचे गए परमेश्वर की रचना हैं कि हम इन भले कामों का स्वभाव करें.

अन्यजातियों का आपस में मेल-मिलाप

11 इसलिए याद रखो कि तुम, जो अपने जन्म से अन्यजाति हो, जिन्हें ख़तनित लोग खतनारहित कहते हैं—ख़तना, जो शरीर में मनुष्य द्वारा किया जाता है 12 याद रखो तुम उस समय संसार में मसीह से अलग, इस्राएल की नागरिकता से निकाले गए, प्रतिज्ञा की वाचाओं से अपरिचित, आशाहीन और परमेश्वर से रहित थे. 13 एक समय था जब तुम दूर थे, किन्तु अब मसीह येशु में उनके लहू के द्वारा पास लाए गए हो.

14 वह स्वयं हमारा मेल हैं, क्योंकि उन्होंने अपने शरीर में दोनों समूहों के बीच की दीवार को ढाह कर दोनों को एक कर दिया. 15 वह उन्होंने आदेशों की व्यवस्था जिसकी आज्ञाएं विधियों की रीति पर थीं मिटा दी कि इसके द्वारा वह स्वयं में उन दो के स्थान पर एक नए मनुष्य को बना कर मेल-मिलाप की स्थापना करें 16 और क्रूस के द्वारा एक शरीर में हम दोनों का परमेश्वर से मेल-मिलाप करा सकें कि शत्रुता समाप्त की जा सके. 17 वह आए और उन्हें, जो दूर थे और उन्हें भी, जो पास थे, शान्ति का सन्देश सुनाया; 18 क्योंकि उन्हीं में होकर एक ही आत्मा में दोनों ही की पहुँच पिता परमेश्वर तक है.

19 इसलिए अब तुम परदेशी और मुसाफिर नहीं परन्तु परमेश्वर के पवित्र लोगों के साथ सहनागरिक और परमेश्वर के परिवार के हो, 20 जिसकी संरचना प्रेरितों और भविष्यद्वक्ताओं द्वारा रखी गई नींव पर हुई, जिसकी आधारशिला स्वयं मसीह येशु हैं, 21 जिनमें सारी भवन-रचना एक साथ मिलकर प्रभु के लिए पवित्र मन्दिर होने के लिए बढ़ती जाती है; 22 जिनमें तुम सभी परमेश्वर का निवास स्थान होने के लिए पवित्रात्मा द्वारा संयोजित किए जाते हुए बनाए जा रहे हो.