प्रकाशन 2 – HCV & MTDS

Hindi Contemporary Version

प्रकाशन 2:1-29

इफ़ेसॉस की कलीसिया को

1“इफ़ेसॉस नगर की कलीसिया के लिए चुने हुए दूत को लिखो:

जो अपने दाएं हाथ में साथ तारे लिए हुए है तथा जो सात सोने के दीवटों के बीच चल रहा है, उसका कहना यह है:

2मैं तुम्हारे कामों, तुम्हारे परिश्रम तथा तुम्हारे धीरज से भली-भांति परिचित हूं और यह भी जानता हूं कि बुराई तुम्हारे लिए असहनीय हैं. तुमने उनके दावों को, जो स्वयं को प्रेरित कहते तो हैं, किंतु हैं नहीं, परखा और झूठा पाया 3और यह भी कि तुम धीरज धरे रहे. तुम मेरे नाम के लिए दुःख सहते रहे, किंतु तुमने हार स्वीकार नहीं की.

4परंतु तुम्हारे विरुद्ध मुझे यह कहना है कि तुममें वह प्रेम नहीं रहा, जो पहले था. 5याद करो कि तुम कहां से कहां आ गिरे हो. इसलिये पश्चाताप करो और वही करो जो तुम पहले किया करते थे; नहीं तो, अगर तुम पश्चाताप न करोगे तो मैं तुम्हारे पास आकर तुम्हारा दीपदान उसके नियत स्थान से हटा दूंगा. 6हां, तुम्हारे विषय में प्रशंसा के योग्य सच्चाई ये है कि तुम भी निकोलॉस के शिष्यों के स्वभाव से घृणा करते हो, जिससे मैं भी घृणा करता हूं.

7जिसके कान हों, वह सुन ले कि कलीसियाओं से पवित्र आत्मा का संबोधन क्या है. जो विजयी होगा, उसे मैं जीवन के पेड़ में से, जो परमेश्वर के परादीस (स्वर्गलोक) में है, खाने के लिए दूंगा.

स्मुरना की कलीसिया को

8“स्मुरना नगर की कलीसिया के लिए चुने हुए दूत को लिखो:

जो पहला और अंतिम है, जिसकी मृत्यु ज़रूर हुई किंतु अब वह जीवित है, उसका कहना यह है:

9मैं तुम्हारी पीड़ा और कंगाली से परिचित हूं—किंतु वास्तव में तुम धनी हो! मैं उनके द्वारा तुम्हारे लिए इस्तेमाल अपशब्दों से भी परिचित हूं, जो स्वयं को यहूदी कहते तो हैं किंतु हैं नहीं. वे शैतान का सभागृह हैं. 10तुम पर जो कष्ट आने को हैं उनसे भयभीत न होना. सावधान रहो: शैतान तुममें से कुछ को कारागार में डालने पर है कि तुम परखे जाओ. तुम्हें दस दिन तक ताड़ना दी जाएगी. अंतिम सांस तक सच्चे बने रहना और मैं तुम्हें जीवन का मुकुट प्रदान करूंगा.

11जिसके कान हों, वह सुन ले कि कलीसियाओं से पवित्र आत्मा का कहना क्या है. जो विजयी होगा, उस पर दूसरी मृत्यु का कोई प्रहार न होगा.

पेरगामॉस की कलीसिया को

12“पेरगामॉस नगर की कलीसिया के लिए चुने हुए दूत को लिखो:

जिसके पास तेज दोधारी तलवार है, उसका कहना यह है.

13मैं जानता हूं कि तुम्हारा घर कहां है—जहां शैतान का सिंहासन है—फिर भी मेरे नाम के प्रति तुम्हारी सच्चाई बनी रही और तुमने मेरे प्रति अपने विश्वास का त्याग नहीं किया—उस समय भी, जब मेरे गवाह, मेरे विश्वासयोग्य अन्तिपास की तुम्हारे नगर में, जहां शैतान का घर है, हत्या कर दी गई.

14किंतु मुझे तुम्हारे विरुद्ध कुछ कहना है तुम्हारे यहां कुछ व्यक्ति हैं, जो बिलआम की शिक्षा पर अटल हैं, जिसने राजा बालाक को इस्राएलियों को भरमाने के लिए, मूर्तियों को भेंट वस्तुएं खाने तथा वेश्यागामी के लिए उकसाया. 15तुम्हारे यहां भी कुछ ऐसे ही व्यक्ति हैं, जिनकी जीवनशैली निकोलॉस के शिष्यों के समान है. 16इसलिये पश्चाताप करो. नहीं तो मैं जल्द ही तुम्हारे पास आकर उस तलवार से, जो मेरे मुख में है, उससे युद्ध करूंगा.

17जिसके कान हों, वह सुन ले कि कलीसियाओं से पवित्र आत्मा का कहना क्या है. जो विजयी होगा, मैं उसे गुप्‍त रखे गए मन्‍ना में से दूंगा तथा एक सफेद पत्थर भी, जिस पर एक नया नाम उकेरा हुआ होगा, जिसे उसके अलावा, जिसने उसे प्राप्‍त किया है, अन्य कोई नहीं जानता.

थुआतेइरा की कलीसिया को

18“थुआतेइरा नगर की कलीसिया के लिए चुने हुए दूत को लिखो:

परमेश्वर के पुत्र का, जिसकी आंखें अग्नि ज्वाला समान तथा पैर भट्टी तपा कर चमकाए गए कांसे के समान हैं, कहना यह है.

19मैं तुम्हारे कामों, तुम्हारे प्रेम, विश्वास, सेवकाई तथा धीरज को जानता हूं तथा इसे भी कि तुम अब पहले की तुलना में अधिक काम कर रहे हो.

20किंतु मुझे तुम्हारे विरुद्ध यह कहना है: तुम उस स्त्री ईजेबेल को अपने बीच रहने दे रहे हो, जो स्वयं को भविष्यवक्ता कहते हुए मेरे दासों को गलत शिक्षा देती तथा उन्हें मूर्तियों को भेंट वस्तुएं खाने तथा वेश्यागामी के लिए उकसाती है. 21मैंने उसे पश्चाताप करने का समय दिया किंतु वह अपने व्यभिचारी कामों का पश्चाताप करना नहीं चाहती. 22इसलिये देखना, मैं उसे बीमारी के बिस्तर पर डाल दूंगा और उन्हें, जो उसके साथ व्यभिचार में लीन हैं, घोर कष्ट में डाल दूंगा—यदि वे उसके साथ के दुष्कर्मों से मन नहीं फिराते. 23इसके अलावा मैं महामारी से उसकी संतान को नाश कर दूंगा, तब सभी कलीसियाओं को यह मालूम हो जाएगा कि जो मन और हृदय की थाह लेता है, मैं वही हूं तथा मैं ही तुममें हर एक को उसके कामों के अनुसार फल देनेवाला हूं.

24किंतु थुआतेइरा के शेष लोगों के लिए, जो इस शिक्षा से सहमत नहीं हैं तथा जो शैतान के कहे हुए गहरे भेदों से अनजान हैं, मेरा संदेश यह है, ‘मैं तुम पर कोई और बोझ न डालूंगा. 25फिर भी मेरे आने तक उसे, जो इस समय तुम्हारे पास है, सुरक्षित रखो.’

26जो विजयी होगा तथा अंत तक मेरी इच्छा पूरी करेगा, मैं उसे राष्ट्रों पर अधिकार प्रदान करूंगा. 27वह उन पर लोहे के राजदंड से शासन करेगा और वे मिट्टी के पात्रों के समान चकनाचूर हो जाएंगे ठीक जैसे मुझे यह अधिकार अपने पिता से मिला है.2:27 स्तोत्र 2:9 28मैं उसे भोर के तारे से सुशोभित करूंगा. 29जिसके कान हों, वह सुन ले कि कलीसियाओं से पवित्र आत्मा का कहना क्या है.

Mushuj Testamento Diospaj Shimi

Apocalipsis 2:1-29

Éfeso crijcunataca: ‘Punta cʼuyaiman tigraichij’ nishcami

1Efesopi tandanacushca crijcunapaj angelman quillcai:

Chai canchis luźerocunata alli lado maquipi Charicujca, canchis curi candelerocunapaj chaupipi Puricujca cashnami nin: 2“Ñucaca, can tucui imalla ruracujtapish, shaicuita imallata ruracujtapish, mana pʼiñarij alli shungu cajtapish yachanimi. Shinallataj millaicunata can mana ricunachishcatapish yachanimi. ‘Huillagrichun mingashcacunami canchij’ nijcuna imalla ruracushcata ricushpaca, llullacunalla cashcatami ricushcangui. Chaitapish yachanimi. 3Canca, achca llaquicuna shamujpipish, mana pʼiñarishpa alli shunguhuan aparcanguillami. Ñucata cʼuyashcamantaca, shaicuita imata ruracushpapish, mana shaicushpa saquircanguichu.

4Chashna cajpipish, canpica caitamari mana allita ricuni: Ña mana punta cʼuyaita shina charinguichu. 5Chaimanta cunanca, maimanta urmashcata yuyarishpa cutiri. Callaripi rurashca shinallataj rurashpa cati. Mana Diospajman cutirijpica, utca cambajman shamushpa, cambaj candelerotaca pai tiyacunmanta anchuchishami. 6Chashna cashpapish, nicolaitacuna millaita rurashcata millanachishpaca, allitamari ruracungui. Ñucapish paicuna ruracushcataca millanimi.

7Maijanpish rinrinta charijca, crij tandanacushcacunaman Diospaj Espíritu huillacujta uyachun. Millaita mishajmanca, ñucaca Taita Diospaj Paraíso chaupipi caj, causaita cuj yuramantamari carasha” ninmi.

nishpa quillcai.

Esmirna crijcunamanca: ‘Coronatami cusha’ nishcami

8Esmirnapi tandanacushca crijcunapaj angelmanpish quillcai:

Callarichijpish, Tucurichijpish, huañushpapish Causarijca, cashnami nin: 9“Ñucaca, can imalla ruracushcatapish, llaquicunata apacushcatapish, huajcha cashcatapish yachanimi. ¡Chashna cashpapish, canca achcata charijmari cangui! ‘Judiocunami canchij’ nijcuna ñucata cʼamishcatapish yachanimi. Paicunaca, mana judiocunatajchu, ashtahuanpish Satanaspaj tandanacuna huasillamari. 10Ama manchaichu, sinchi llaquimi shamugrin. Cancunapuramanta maijancunataca, ima shina catijta ricungapajmi, diabloca preźu churachinga. Chunga punllacunatami, chashna tucui laya llaquichingacuna. ¡Cancunaca huañungacama, ñucataca alli caźushpa caticuichijlla! Chashna catijpica, causaita charishcata ricuchij coronatami cusha.

11Rinrinta charijca, crij tandanacushcacunaman Diospaj Espíritu huillacujta uyachun. Millaita mishajtaca, qʼuipa huañuica imata mana rurai tucungachu” ninmi.

nishpa quillcai.

Pérgamo pueblopi tandanacuj crijcunaman quillcashcami

12Pergamopi tandanacushca crijcunapaj angelman quillcai:

Chai ishqui filoyuj, puntasapa espadata charicujca, cashnami nin: 13“Can imata ruracujtapish, maipi causacujtapish yachanimi. Satanás mandacun pueblopimari causacungui. Shina cashpapish ñucataca, ña mana catisha mana nishcanguichu, ñucamanta huillanatapish manataj saquishcanguichu. Satanás mandacun pueblopitaj ñucamanta huillanata alli pajtachij, cancunapura Antipasta huañuchishca punllacunapish manataj mancharcanguichijchu.

14Shina cajpipish, cantaca asha juchachinata charinimari: Balaam shuti runa yachachishcata mana saquisha nijcunatamari charicunguiraj. Balaamca, israelcunata pandachingapajmi Balac runataca, rurashcalla dioscunaman cushca aichata paicunaman carachunpish, inquitashpa huainayachichunpish yachachirca. 15Nicolaitacuna yachachishcata mana saquisha nijcunatapishmari charicunguiraj. Paicuna ima shina yachachishcataca, ñucataca millanayanmi. 16Cutirishpa, chaicunataca saqui. Can mana cutirijpica, cambajman ña utca shamushpami, ñuca shimimanta llujshij espadahuan paicunahuanca macanacusha.

17Rinrinta charijca, crij tandanacushcacunaman Diospaj Espíritu huillacujta uyachun: Millaita mishajmanca, pacashca tiyacuj maná shuti micunatami carasha. Shinallataj uchilla yuraj rumitapish cushami. Chai rumipica, pi mana yachashca mushuj shutita quillcashpami cusha. Chai shutitaca, chai rumita chasquijllami yachanga” ninmi.

nishpa quillcai.

Tiatira pueblopi tandanacuj crijcunaman quillcashcami

18Tiatirapi tandanacushca crijcunapaj angelmanpish quillcai:

Diospaj Churi, nina lunyacuj shina ñahuiyuj, achij nicujta llambuyachishca bronceman rijchaj chaquicunayujca, cashnami nin: 19“Ñucaca, can imallata ruracushcata, cʼuyaj cashcata, alli crij cashcata, ima shina servishcata, mana pʼiñarij cashcatapish rijsinimi. Shinallataj cunanca, callaripi ruracushcatapish yalli allita ruracushcatapish yachanimi.

20Shina cajpipish, cantaca asha juchachinata charinimi: Jezabel mana allita yachachicujpipish, mana jarcashpa, saquishcanguillamari. Chai huarmica, ‘Dios ima nishcata huillajmi cani’ nishpami, ñucata servijcunataca umacun. Paica, huainata charichunlla, rurashcalla dioscunaman cushca aichatapish micuchunlla nishpami yachachishpa inquitacun. 21Ñucaca, chai huarmitaca, cutirichun nishpami shuyacurcani. Ashtahuanpish huainayanataca, manataj saquisha ninchu, manataj cutirinchu. 22Chaimantami cunanca, jatun nanaihuan siricuchun camapi shitani. Chai huarmihuan huainayajcunatapish, paihuan mana allita ruracushcamanta manataj cutirijpica, jatuntami llaquichisha. 23Chai huarmipaj huahuacunatapish huañuchishami. Chashna rurajpimi, tucui crij tandanacushcacuna ñucataca, shungupi ima tiyacujta, imata yuyacujta yachangacuna. Ñucami cancunamanca, tucuicunaman imalla rurashcacunamanta cuna cashcata cusha. 24Tiatirapi causacujcuna, cancunamanta maijancunaca chai mana allita yachachishcataca, mana caticunguichijchu. ‘Satanasmanta jatun yachanami’ nishpa paicuna yachachishcata mana catishpaca, allitami ruranguichij. Chaimanta cancunataca, ima shujtajta rurachun mana mandanichu. 25Shina cajpica, cancuna chashna alli caticushcataca, ñuca shamungacama chashnallataj catiracuichijlla.

26Millaita mishashpa, tucuringacama ñuca rurachun nishcata caźujtaca llajtacunata, mandaj cachunmi churasha. 27Paimanca Ñuca Yaya, Mandaj cachun ñucata churashca shinallatajmi, llajtacunata mandachun cusha.

‘Paimi, fierro varahuan mandanga,

allpa mangata shinami ñutunga.’

28Paimanca, pacaripi llujshij luźerotapish cushami. 29Rinrinta charijca, crij tandanacushcacunaman Diospaj Espíritu huillacujta uyachun” ninmi.

nishpa quillcai.