उत्पत्ति 40 HCV – 1. Мојсијева 40 NSP

Select chapter 40

Hindi Contemporary Version

उत्पत्ति 40:1-23

योसेफ़ द्वारा स्वप्न व्याख्यान

1कुछ समय बाद राजा फ़रोह के पिलाने वाले और उनके खाना बनानेवाले ने अपने स्वामी फ़रोह के विरुद्ध कुछ गलती करी. 2और प्रधान खानसामे और प्रधान पिलाने वाले दोनों पर राजा गुस्सा हुए, 3इसलिये राजा ने उन दोनों को कारावास में डाल दिया, जहां योसेफ़ भी बंदी थे. 4अंगरक्षकों के प्रधान ने योसेफ़ के हाथ उन दोनों को सौंप दिया. योसेफ़ उनका ध्यान रखते थे.

और वे दोनों कुछ समय तक कारावास में रहे, 5तब एक रात दोनों ने अलग-अलग सपना देखा, और हर एक सपने का अपना अलग-अलग अर्थ था.

6जब सुबह योसेफ़ वहां आए और उन दोनों को देखा कि वे उदास थे. 7योसेफ़ ने जो उसके साथ कारावास में थे, उनसे पूछा: “कि आप दोनो ऐसे उदास क्यों हैं?”

8उन्होंने कहा, “हम दोनों ही ने स्वप्न देखा है, किंतु कोई भी नहीं है, जो उसका मतलब बता सके.”

यह सुनकर योसेफ़ ने कहा, “क्या आप नहीं जानते कि स्वप्न की व्याख्या परमेश्वर की ओर से होती है? कृपया आप मुझे अपना स्वप्न बताएं.”

9तब पिलाने वाले ने योसेफ़ से कहा “अपने स्वप्न में मैंने देखा कि मेरे पास एक दाखलता (अंगूर की बेल) है, 10जिसमें तीन शाखाएं हैं. जैसे ही इन पर कलियां खिली, उनमें फूल खिलें और अंगूर लगकर पक गए. 11और मैं फ़रोह का प्याला लिए था और मैंने अंगूर लेकर प्याले में रस निचोड़ा. तब मैंने प्याला फ़रोह के हाथों में दिया.”

12स्वप्न सुनकर योसेफ़ ने कहा, “वे तीन शाखाएं तीन दिन हैं. 13और तीन दिन में फ़रोह आपको वापस बुला लेंगे और आपका काम दुबारा आपको सौंप देंगे और आप फिर से पिलाने का काम शुरु करेंगे. 14योसेफ़ ने उनसे कहा जब आप फ़रोह राजा के पास जायेंगे तब मुझे मत भूलना लेकिन राजा को मेरे बारे में बताना और मुझे कारावास से बाहर निकलवाना. 15मुझे अपने घर इब्रियों के देश से ज़बरदस्ती से लाया गया था और यहां पर भी मैंने ऐसा कोई अपराध नहीं किया है जिसके लिये मुझे इस काल-कोठरी में डाला जाता.”

16फिर खाना बनानेवाले ने देखा कि दूसरे नौकर के स्वप्न की व्याख्या उनके पक्ष में थी तब उसने योसेफ़ से कहा, “मैंने भी एक स्वप्न देखा है: मैंने देखा कि मेरे सिर पर सफ़ेद रोटी की तीन टोकरियां रखी हैं. 17सबसे ऊपर की टोकरी में फ़रोह के लिए तैयार किए गए सभी प्रकार के व्यंजन थे, टोकरी सिर पर रखी हुई थी पक्षी उसमें से खाते जा रहे थे.”

18“स्वप्न सुनकर योसेफ़ ने अर्थ बताया कि वे तीन टोकरियां तीन दिन हैं. 19इन तीन दिनों में फ़रोह तुम्हारा सिर काट देंगे और शरीर को पेड़ पर लटका देंगे और पक्षी आकर तुम्हारे शरीर को नोचेंगे.”

20यही हुआ. तीसरे दिन फ़रोह का जन्म-दिन था उसने अपने सभी सेवकों को भोज दिया उस दिन पिलाने वाले और पकाने वाले दोनों को कारावास से बाहर लाया गया: 21पिलाने वाले को फिर से उसकी जवाब-दारी दे दी; वह फ़रोह के हाथ में फिर से प्याला देने लगे. 22लेकिन पकाने वाले को फांसी पर लटका दिया, सब कुछ वैसा ही हुआ जैसा योसेफ़ ने बताया था.

23यह सब देखकर भी पिलाने वाले ने योसेफ़ को याद न किया; पर भूल गया.

New Serbian Translation

1. Мојсијева 40:1-23

Јосиф тумачи снове фараоновим слугама

1После извесног времена, десило се да су пехарник и пекар египатског цара згрешили нешто против свога господара, египатског цара. 2Фараон се разљути на своја два дворанина, на главног пехарника и на главног пекара, 3па их стави у притвор, у зграду заповедника телесне страже, у исту тамницу где је Јосиф био затворен. 4Заповедник телесне страже је одредио Јосифа да их послужује. У притвору су провели неко време.

5Једне ноћи обојица – пехарник и пекар египатског цара, који су били затворени у тамници – усну сан. Сваки човек је уснио свој сан и сваки сан је имао своје значење. 6Кад је Јосиф ујутро дошао к њима, приметио је да су лоше воље. 7Упитао је ту двојицу дворанина који су били с њим у притвору, у згради његовог господара: „Зашто су вам лица смркнута?“ 8Они му одговоре: „Уснули смо снове, али нема никога да нам их протумачи.“ Јосиф им на то рече: „Није ли Бог тај који даје тумачење снова? Хајде, испричајте ми их.“ 9Главни пехарник исприча свој сан Јосифу: „У своме сам сну видео чокот лозе пред собом. 10На чокоту су биле три младице. Тек што је на њима потерало лишће, младице се расцветају и на њиховим гроздовима дозру зрна. 11Ја сам, пак, у руци држао фараонов пехар. Онда сам узео оно грожђе, исцедио га у фараонов пехар, и ставио пехар у фараонову руку.“ 12Јосиф му рече: „Ово је значење сна: три младице су три дана. 13За три дана ће ти фараон подићи главу и вратиће те у твоју службу, па ћеш опет стављати пехар у фараонову руку као кад си био његов пехарник. 14Сети ме се кад ти крене на добро; буди, молим те, тако љубазан да ме споменеш фараону и извучеш ме из ове тамнице. 15Ја сам, у ствари, силом био одведен из земље Јевреја, а ни овде нисам учинио ништа за шта би ме стрпали у ову тамницу.“

16Кад је главни пекар видео да је Јосиф добро протумачио сан, рекао је Јосифу: „И ја сам уснио сан: на глави ми је било три кошаре белог пецива. 17У горњој кошари је било свакојаког пецива за фараона, али су га птице јеле из кошаре на мојој глави.“ 18Јосиф му одговори: „Ово је тумачење сна: три кошаре су три дана. 19Након три дана фараон ће ти одрубити главу; обесиће те на дрво, па ће птице јести месо с тебе.“

20Тако се и деси; трећега дана је био фараонов рођендан, и он приреди гозбу за све његове дворане. Главног пехарника и главног пекара је довео из тамнице пред своје дворане. 21Главног пехарника је вратио у његову пехарничку службу, те је поново стављао пехар у фараонову руку, 22а главног пекара је обесио – по тумачењу које им је дао Јосиф. 23Међутим, главни пехарник се није сетио Јосифа. Заборавио га је.