उत्पत्ति 38 HCV – Mateusza 38 SZ-PL

Select chapter 38

Hindi Contemporary Version

उत्पत्ति 38:1-30

यहूदाह तथा तामार

1जब उन्हीं दिनों यहूदाह अपने भाइयों के बीच से निकलकर और हीराह नामक अदुल्लामवासी व्यक्ति के साथ रहने चले गये. 2तब शुआ नामक एक कनानी व्यक्ति की पुत्री से मिले और उन्होंने उससे विवाह कर लिया और उससे प्रेम किया; 3और उसने एक पुत्र को जन्म दिया, जिसका एर नाम रखा. 4उसने एक और पुत्र को जन्म दिया और उसका नाम ओनान रखा. 5उसने एक और पुत्र को जन्म दिया, जिसका शेलाह नाम रखा तब यहूदाह केज़ीब में रहते थे.

6यहूदाह ने एर, का विवाह तामार नामक स्त्री से किया. 7यहूदाह का बड़ा बेटा याहवेह के दृष्टि में दुष्ट था; इसलिये याहवेह ने उसे मार डाला.

8यहूदाह ने ओनान से कहा, “अपने भाई की पत्नी के साथ देवर का कर्तव्य पूरा करके, अपने भाई के लिए संतान उत्पन्न करो.” 9ओनान ने कहा, ये संतान मेरी नहीं होगी; इसलिये जब कभी वह समागम करता, अपना वीर्य भूमि पर गिरा देता था कि उससे उसके भाई के लिए कोई संतान उत्पन्न न हो सके. 10उसका यह काम याहवेह को अच्छा नहीं लगा, इसलिये याहवेह ने उसके प्राण ले लिए.

11यह देख यहूदाह ने अपनी बहू तामार से कहा, “जब तक मेरा पुत्र शेलाह, विवाह के योग्य न हो जाए, अपने पिता के घर विधवा बनकर रहना.” यहूदाह को डर था कि इस पुत्र की भी मृत्यु उसके भाइयों के समान न हो जाए. इसलिये तामार अपने पिता के घर चली गई.

12बहुत समय बाद शुआ की पुत्री अर्थात यहूदाह की पत्नी की मृत्यु हो गई. यहूदाह अपने शोक के समय के बाद अपनी भेड़ों के ऊन कतरने वालो के पास तिमनाह को गया. उसके साथ उसका मित्र अदुल्लामी हीराह भी था.

13जब तामार को यह बताया गया कि, “तुम्हारे ससुर तिमनाह जा रहे हैं,” 14तब तामार ने अपने विधवा के वस्त्र उतार दिए, और अपना मुंह घूंघट से छिपाकर एक चादर लपेट ली तथा तिमनाह के मार्ग पर एनाइम के प्रवेश द्वार पर बैठ गई. यह इसलिये किया क्योंकि उसका देवर शेलाह जवान हो चुका था तथा उससे उसका विवाह नहीं किया गया था.

15वहां से निकलते हुए उसे देख यहूदाह ने उसे वेश्या समझा, क्योंकि उसने मुंह ढक रखा था. 16इसलिये यहूदाह उसके पास गया और उससे कहा, “मुझे तुम्हारे साथ संभोग करना है.”

यहूदाह को यह मालूम नहीं था कि वह उसकी ही बहू थी. उसने पूछा, “क्या मजदूरी दोगे?”

17यहूदाह ने उत्तर दिया, “मैं तुम्हें अपने झुंड में से एक बकरी भिजवा दूंगा.”

तब तामार ने कहा, “उसे भिजवाने तक उसके बदले में क्या दोगे?”

18यहूदाह ने पूछा, “क्या चाहती हो?”

उसने उत्तर दिया, “तुम्हारी मुद्रामोहर, तुम्हारी बाजूबन्द तथा तुम्हारे हाथ की लाठी.” तब यहूदाह ने उसे ये देकर उससे संभोग किया और चला गया. तामार यहूदाह से गर्भवती हो गई. 19तामार ने घर जाकर अपने विधवा वस्त्र वापस पहन लिया.

20जब यहूदाह ने अपने अदुल्लामी मित्र के हाथ वह शावक बकरी उस स्त्री के लिए भेजी, तो वहां उसे वह स्त्री नहीं मिली. 21उसने आस-पास लोगों से पूछा कि, “वह वेश्या कहां है, जो एनाइम मार्ग पर बैठा करती है?”

उन्होंने कहा, “यहां कोई वेश्या कभी थी ही नहीं.”

22इसलिये वह यहूदाह के पास लौट गया और उसे बताया, “वह मुझे नहीं मिली. इतना ही नहीं, वहां लोगों ने बताया कि वहां तो कभी कोई वेश्या थी ही नहीं.”

23यह सुन यहूदाह ने उससे कहा, “तब तो उसे वे चीज़ें रख लेने दो अन्यथा तुच्छ हम ही बन जाएंगे. मैंने तो उसके लिए बकरी भिजवा दी थी, किंतु हम उसका पता नहीं लगा सके.”

24लगभग तीन माह बाद यहूदाह को बताया गया कि, “तुम्हारी बहू ने व्यभिचार किया है और वह गर्भवती है.”

यहूदाह ने कहा, “उसे बाहर लाओ ताकि उसे जला दें!”

25जब उसे बाहर ला रहे थे, उसने अपने ससुर को यह संदेश भेजा, “मैं उस व्यक्ति से गर्भवती हूं जिसकी ये वस्तुएं हैं.” तामार ने कहा, “देखो, कि यह मुद्रामोहर, बाजूबन्द तथा लाठी किसकी है.”

26यहूदाह ने ये वस्तुएं देखते ही पहचान लीं और कहा, “वह तो मुझसे कम दोषी है, क्योंकि मैंने ही उसे शेलाह की पत्नी होने से रोका था.” यहूदाह ने उससे पुनः संभोग नहीं किया.

27जब प्रसव का समय आया तब पता चला कि उसके गर्भ में जुड़वां बच्चे हैं. 28जब प्रसव पीड़ा हो रही थी एक ने हाथ बाहर निकाला तो धाय ने उसके हाथ में यह कहते हुए लाल डोरी बांध दी, “कि यह पहले जन्मा है.” 29लेकिन उसने अपना हाथ अंदर खींच लिया और उसके भाई का जन्म उससे पहले हुआ. तब धाय ने कहा, “तुम ही पहले बाहर निकलने में समर्थ हुए!” इसलिये उसका नाम पेरेज़ रखा. 30फिर उसके भाई का जन्म हुआ, जिसके हाथ पर वह लाल डोर बांधी गई थी. उसका नाम ज़ेराह रखा.

Słowo Życia

This chapter is not available yet in this translation.