उत्पत्ति 12 HCV – मत्ती 12 NCA

Select chapter 12

Hindi Contemporary Version

उत्पत्ति 12:1-20

अब्राम का मिस्र प्रवास

1फिर याहवेह ने अब्राम से कहा, “अपने पिता के घर तथा अपने रिश्तेदारों को छोड़कर उस देश को चला जा, जो मैं तुझे दिखाऊंगा.

2“मैं तुझसे एक बड़ी जाति बनाऊंगा,

मैं तुम्हें आशीष दूंगा;

मैं तुम्हारा नाम बड़ा करूंगा,

और तुम आशीष के कारण होगे.

3जो तुम्हें आशीष देंगे,

मैं उन्हें आशीष दूंगा तथा जो तुम्हें शाप देगा;

मैं उन्हें शाप दूंगा.

तुमसे ही पृथ्वी के सब लोग आशीषित होंगे.”

4इसलिये याहवेह के आदेश के अनुसार अब्राम चल पड़े; लोत भी उनके साथ गये. जब अब्राम हारान से निकले, तब वे 75 वर्ष के थे. 5अब्राम के साथ उनकी पत्नी सारय, उनका भतीजा लोत, उनकी पूरी संपत्ति तथा उनके सभी लोग कनान देश पहुंचे.

6वहां से अब्राम शेकेम में मोरेह के बांज वृक्ष तक पहुंच गए. उस समय उस देश में कनानी लोग रहते थे. 7याहवेह ने अब्राम को दर्शन दिया और कहा, “तुम्हारे वंश को मैं यह देश दूंगा.” तब अब्राम ने उस स्थान पर याहवेह के सम्मान में, जो उन पर प्रकट हुए थे, एक वेदी बनाई.

8फिर अब्राम वहां से बेथ-एल के पूर्व में पर्वत की ओर बढ़ गए, वहीं उन्होंने तंबू खड़े किए. उनके पश्चिम में बेथ-एल तथा पूर्व में अय नगर थे. अब्राम ने वहां याहवेह के सम्मान में वेदी बनाई और आराधना की.

9वहां से अब्राम नेगेव की ओर बढ़े.

10उस देश में अकाल पड़ा, तब अब्राम कुछ समय के लिये मिस्र देश में रहने के लिये चले गए, क्योंकि उनके देश में भयंकर अकाल पड़ा था. 11जब वे मिस्र देश के पास पहुंचे, तब अब्राम ने अपनी पत्नी सारय से कहा, “सुनो, मुझे मालूम है कि तुम एक सुंदर स्त्री हो. 12जब मिस्र के लोगों को यह पता चलेगा कि तुम मेरी पत्नी हो. तो वे मुझे मार डालेंगे, और तुम्हें जीवित छोड़ देंगे. 13इसलिये तुम यह कहना कि तुम मेरी बहन हो, ताकि वे मुझे नहीं मारें.”

14जब अब्राम मिस्र देश पहुंचे, तब मिस्रियों ने सारय को देखा कि वह बहुत सुंदर है. 15और फ़रोह के अधिकारियों ने भी सारय को देखा, तो उन्होंने फ़रोह को उसकी सुंदरता के बारे में बताया और सारय को फ़रोह के महल में लाया गया. 16फ़रोह ने सारय के कारण अब्राम के साथ अच्छा व्यवहार किया. उसने उसे भेड़ें, बैल, गधे-गधियां, ऊंट तथा दास-दासियां दिए.

17पर याहवेह ने अब्राम की पत्नी सारय के कारण फ़रोह तथा उसके घर पर बड़ी-बड़ी विपत्तियां डाली. 18इसलिये फ़रोह ने अब्राम को बुलवाया और उससे कहा, “तुमने मेरे साथ यह क्या किया? तुमने मुझसे यह बात क्यों छिपाई कि यह तुम्हारी पत्नी है? 19तुमने यह क्यों कहा, ‘कि यह तुम्हारी बहिन है,’ जिसके कारण मैंने उसे अपनी पत्नी बनाने के उद्देश्य से अपने महल में रखा? इसलिये अब तुम उसे अपने साथ लेकर यहां से चले जाओ!” 20तब फ़रोह ने अपने अधिकारियों को अब्राम के बारे में आदेश दिया और उन्होंने अब्राम को उसकी पत्नी और उसकी सब संपत्ति के साथ विदा किया.

New Chhattisgarhi Translation (नवां नियम छत्तीसगढ़ी)

This chapter is not available yet in this translation.