उत्पत्ति 10 HCV – Matouš 10 SNC

Select chapter 10

Hindi Contemporary Version

उत्पत्ति 10:1-32

नोहा के वंशज

1शेम, हाम और याफेत नोहा के पुत्र थे, जलप्रलय के बाद इनकी संतान उत्पन्न हुईं.

याफेत

2याफेत के पुत्र:

गोमर, मागोग, मेदिया, यावन, तूबल, मेशेक तथा तिरास थे.

3गोमर के पुत्र:

अश्केनाज, रिफात तथा तोगरमाह थे.

4यावन के पुत्र:

एलिशाह, तरशीश, कित्तिम तथा दोदानिम थे. 5(और उनके वंशज मल्लाह बनकर प्रत्येक की अपनी भाषा, कुल और राष्ट्र होकर विभिन्न देशों में बंट गये.)

हाम

6हाम के पुत्र:

कूश, मिस्रियों, पूट तथा कनान हुए.

7कूश के पुत्र:

सेबा, हाविलाह, सबताह, रआमाह और सबतेका.

रआमाह के पुत्र:

शीबा और देदान.

8कूश निमरोद का पिता था जो पृथ्वी पर पहले वीर व्यक्ति के रूप में मशहूर हुआ. 9वह याहवेह की दृष्टि में पराक्रमी, शिकार खेलने वाला था, और ऐसा कहा जाने लगा, “निमरोद के समान याहवेह की दृष्टि में पराक्रमी शिकार खेलने वाला.” 10उसके राज्य की शुरुआत शीनार देश में, बाबेल, एरेख, अक्काद तथा कालनेह से हुई. 11वहां से वे अश्शूर में गये, वहां उन्होंने नीनवेह, रेहोबोथ-इर तथा कलाह नगर बनाए. 12तथा रेसेन नगर को बनाए, जो नीनवेह तथा कलाह के बीच का एक बड़ा नगर है.

13मिस्रियों के पुत्र

लूदिम, अनामिम, लेहाबिम, नाफतुहि, 14पथरूस, कस्लूह और काफ़तोर (जिनसे फिलिस्तीनी राष्ट्र निकले)

15कनान का पहला पुत्र

सीदोन फिर हेथ, 16यबूसी, अमोरी, गिर्गाशी, 17हिव्वी, आरकी, सीनी, 18अरवादी, ज़ेमारी, हामाथी.

(बाद में कनानी परिवार भी बढ़ते गए. 19कनान के वंश की सीमा सीदोन से होकर गेरार से होती हुई अज्जाह तक थी तथा सोदोम, अमोराह, अदमाह तथा ज़ेबोईम से लाशा तक थी.)

20ये सभी कुलों, भाषाओं, देशों तथा उनके राष्ट्रों के अनुसार हाम के वंश में से थे.

शेम

21शेम याफेत के बड़े भाई थे; वे एबर के वंश के कुलपिता हुए.

22शेम के पुत्र:

एलाम, अशहूर, अरफाक्साद, लूद तथा अराम थे.

23अराम के पुत्र उज:

हूल, गेथर तथा माश थे.

24अरफाक्साद शेलाह का पिता था,

शेलाह एबर का.

25एबर के दो पुत्र हुए:

एक का नाम पेलेग अर्थात बांटना, क्योंकि उनके समय में पृथ्वी का बंटवारा हुआ. उनके भाई का नाम योकतान था.

26योकतान के पुत्र:

अलमोदाद, शेलेफ, हासारमेबेथ, जेराह, 27हादरोम, उजाल, दिखलाह, 28ओबाल, अबिमाएल, शीबा, 29ओफीर, हाविलाह और योबाब. ये सभी योकतान के पुत्र थे.

30(ये जहां रहते थे, वहां की सीमा मेषा से लेकर पूर्व के पहाड़ के सेफार तक थी.)

31ये सभी अपने कुलों, भाषाओं, देशों तथा राष्ट्रों के अनुसार शेम वंश के थे.

32अपनी-अपनी संतान और जाति के अनुसार, ये नोहा के बेटों के वंशज हैं. जलप्रलय के बाद, जाति-जाति के लोग इनसे निकलकर पृथ्वी में फैल गए.

Slovo na cestu

This chapter is not available yet in this translation.