Saral Hindi Bible

1 पेतरॉस 1

1मसीह येशु के प्रेरित पेतरॉस की ओर से उन सभी को,

जो चुने हुए, प्रवासियों समान पोन्तॉस, गलातिया, कप्पादोकिया, आसिया तथा बिथुनिया प्रदेशों में तितर-बितर होकर निवास कर रहे हैं, तथा पिता परमेश्वर के भविष्य के ज्ञान के अनुसार, पवित्रात्मा के पवित्र करने के द्वारा प्रभु के लिए अलग किए गए हैं कि वे मसीह येशु के आज्ञाकारी हों तथा उनके लहू का छिड़काव लें:

तुम्हें अनुग्रह व शान्ति बहुतायत से प्राप्त हो.

भविष्य की आशा

स्तुति के योग्य हैं हमारे प्रभु मसीह येशु के पिता और परमेश्वर, जिन्होंने अपनी महान कृपा के अनुसार हमें मसीह येशु के मरे हुओं में से जी उठने के द्वारा जीवित आशा में नया जन्म प्रदान किया है कि हम उस मीरास को प्राप्त करें, जो अविनाशी, निर्मल तथा अजर है, जो तुम्हारे लिए, जो विश्वास के माध्यम से परमेश्वर के सामर्थ के द्वारा युग के अन्त में प्रकट होने के लिए ठहराए हुए उद्धार के लिए सुरक्षित रखे गए हो, स्वर्ग में आरक्षित है. इसके प्रति आशा तुम्हारे अतीव आनन्द का आधार है यद्यपि इस समय थोड़े समय के लिए तुम्हें अनेक प्रकार की परीक्षाएं सहना ज़रूरी हो गया है कि मसीह येशु के दोबारा आगमन के अवसर पर तुम्हारे विश्वास के प्रमाण का परिणाम प्रशंसा, गौरव और सम्मान में देखा जा सके. तुम्हारा यह विश्वास नाशमान सोने से कहीं अधिक कीमती है—यद्यपि इसे आग में परखा जाता है. हालांकि तुमने प्रभु को नहीं देखा है फिर भी उनसे प्रेम करते हो; और तुम उन्हें इस समय नहीं देख रहे, फिर भी तुम उनमें विश्वास करते हो और ऐसे आनन्द से, जो वर्णन से बाहर है विभोर हो, जो ईश्वरीय महिमा से भरा है, जिसे तुमने अपने विश्वास के परिणामस्वरूप प्राप्त किया है—तुम्हारी आत्मा का उद्धार.

10 इसी उद्धार के सम्बन्ध में भविष्यद्वक्ताओं ने अपनी भविष्यवाणियों में तुम्हारे आने वाले अनुग्रह की प्राप्ति के विषय में खोज और छानबीन की. 11 उनकी खोज का विषय था उनमें बसा हुआ मसीह के आत्मा द्वारा पहले से बताई गई मसीह की सताहटों तथा उनके बाद उनकी महिमा का संकेत किस व्यक्ति तथा किस काल की ओर था. 12 उन पर यह प्रकट कर दिया गया था कि यह सब उनके जीवनकाल में नहीं परन्तु वर्षों बाद तुम्हारे जीवनकाल में सम्पन्न होगा. अब तुम तक यही ईश्वरीय सुसमाचार उनके द्वारा लाया गया है, जिन्होंने स्वर्ग से भेजे गए पवित्रात्मा द्वारा प्रचार क्षमता प्राप्त की थी. स्वर्गदूत तक इनकी एक झलक पाने के लिए लालायित रहते हैं.

प्रभु के लिए अलग किए जाने की बुलाहट

13 इसलिए मानसिक रूप से कमर कस लो, सचेत रहो और अपनी आशा पूरी तरह उस अनुग्रह पर केन्द्रित करो, जो मसीह येशु के प्रकट होने पर तुम्हें प्रदान किया जाएगा. 14 परमेश्वर की आज्ञाकारी सन्तान होने के कारण उन अभिलाषाओं को तृप्त न करो, तुम पहले अज्ञानतावश जिनके अधीन थे. 15 अपने पवित्र बुलानेवाले के समान तुम स्वयं अपने सारे स्वभाव में पवित्र हो जाओ 16 क्योंकि लिखा है: चाहने योग्य है तुम्हारा पवित्र होना, क्योंकि मैं पवित्र हूँ.

17 यदि तुम उन्हें पिता कहते हो, जो मनुष्यों के कामों के आधार पर बिना पक्षपात के निर्णय करते हैं तो तुम पृथ्वी पर अपने रहने का समय उन्हीं के भय में बिताओ, 18 इस अहसास के साथ कि पूर्वजों से चली आ रही तुम्हारे निकम्मे चाल-चलन से तुम्हारी छुटकारा नाशमान सोने-चांदी के द्वारा नहीं, 19 परन्तु मसीह के बहुमूल्य लहू से हुआ है—निर्दोष और निष्कलंक मेमने के लहू से. 20 यद्यपि वह सृष्टि के पहले से ही चुने हुए थे किन्तु इन अन्तिम दिनों में तुम्हारे लिए प्रकट हुए हैं. 21 तुम, जो प्रभु द्वारा परमेश्वर में विश्वास करते हो, जिन्होंने उन्हें मरे हुओं में से जीवित कर महिमित किया, जिसके परिणामस्वरूप तुम्हारा विश्वास और आशा परमेश्वर में है.

22 इसलिए कि तुमने उस सच्चाई की आज्ञा मानने के द्वारा अपनी आत्मा को निश्छल भाईचारे के लिए पवित्र कर लिया है, अब तुम में आपस में उत्तम हार्दिक प्रेम ही देखा जाए. 23 तुम्हारा नया जन्म नाशमान नहीं परन्तु अनन्त जीवन तत्व अर्थात् परमेश्वर के जीवित और सदा ठहरने वाले वचन के द्वारा हुआ है 24 क्योंकि

सभी मनुष्य घास के समान
    तथा उनकी शोभा जंगली फ़ूलों के समान है;
घास मुरझा जाती तथा फ़ूल झड़ जाता है;
25     परन्तु प्रभु का वचन युगानुयुग बना रहता है

यही है वह वचन, जो तुम्हें सुनाया गया था.

Saral Hindi Bible

1 पेतरॉस 1

1मसीह येशु के प्रेरित पेतरॉस की ओर से उन सभी को,

जो चुने हुए, प्रवासियों समान पोन्तॉस, गलातिया, कप्पादोकिया, आसिया तथा बिथुनिया प्रदेशों में तितर-बितर होकर निवास कर रहे हैं, तथा पिता परमेश्वर के भविष्य के ज्ञान के अनुसार, पवित्रात्मा के पवित्र करने के द्वारा प्रभु के लिए अलग किए गए हैं कि वे मसीह येशु के आज्ञाकारी हों तथा उनके लहू का छिड़काव लें:

तुम्हें अनुग्रह व शान्ति बहुतायत से प्राप्त हो.

भविष्य की आशा

स्तुति के योग्य हैं हमारे प्रभु मसीह येशु के पिता और परमेश्वर, जिन्होंने अपनी महान कृपा के अनुसार हमें मसीह येशु के मरे हुओं में से जी उठने के द्वारा जीवित आशा में नया जन्म प्रदान किया है कि हम उस मीरास को प्राप्त करें, जो अविनाशी, निर्मल तथा अजर है, जो तुम्हारे लिए, जो विश्वास के माध्यम से परमेश्वर के सामर्थ के द्वारा युग के अन्त में प्रकट होने के लिए ठहराए हुए उद्धार के लिए सुरक्षित रखे गए हो, स्वर्ग में आरक्षित है. इसके प्रति आशा तुम्हारे अतीव आनन्द का आधार है यद्यपि इस समय थोड़े समय के लिए तुम्हें अनेक प्रकार की परीक्षाएं सहना ज़रूरी हो गया है कि मसीह येशु के दोबारा आगमन के अवसर पर तुम्हारे विश्वास के प्रमाण का परिणाम प्रशंसा, गौरव और सम्मान में देखा जा सके. तुम्हारा यह विश्वास नाशमान सोने से कहीं अधिक कीमती है—यद्यपि इसे आग में परखा जाता है. हालांकि तुमने प्रभु को नहीं देखा है फिर भी उनसे प्रेम करते हो; और तुम उन्हें इस समय नहीं देख रहे, फिर भी तुम उनमें विश्वास करते हो और ऐसे आनन्द से, जो वर्णन से बाहर है विभोर हो, जो ईश्वरीय महिमा से भरा है, जिसे तुमने अपने विश्वास के परिणामस्वरूप प्राप्त किया है—तुम्हारी आत्मा का उद्धार.

10 इसी उद्धार के सम्बन्ध में भविष्यद्वक्ताओं ने अपनी भविष्यवाणियों में तुम्हारे आने वाले अनुग्रह की प्राप्ति के विषय में खोज और छानबीन की. 11 उनकी खोज का विषय था उनमें बसा हुआ मसीह के आत्मा द्वारा पहले से बताई गई मसीह की सताहटों तथा उनके बाद उनकी महिमा का संकेत किस व्यक्ति तथा किस काल की ओर था. 12 उन पर यह प्रकट कर दिया गया था कि यह सब उनके जीवनकाल में नहीं परन्तु वर्षों बाद तुम्हारे जीवनकाल में सम्पन्न होगा. अब तुम तक यही ईश्वरीय सुसमाचार उनके द्वारा लाया गया है, जिन्होंने स्वर्ग से भेजे गए पवित्रात्मा द्वारा प्रचार क्षमता प्राप्त की थी. स्वर्गदूत तक इनकी एक झलक पाने के लिए लालायित रहते हैं.

प्रभु के लिए अलग किए जाने की बुलाहट

13 इसलिए मानसिक रूप से कमर कस लो, सचेत रहो और अपनी आशा पूरी तरह उस अनुग्रह पर केन्द्रित करो, जो मसीह येशु के प्रकट होने पर तुम्हें प्रदान किया जाएगा. 14 परमेश्वर की आज्ञाकारी सन्तान होने के कारण उन अभिलाषाओं को तृप्त न करो, तुम पहले अज्ञानतावश जिनके अधीन थे. 15 अपने पवित्र बुलानेवाले के समान तुम स्वयं अपने सारे स्वभाव में पवित्र हो जाओ 16 क्योंकि लिखा है: चाहने योग्य है तुम्हारा पवित्र होना, क्योंकि मैं पवित्र हूँ.

17 यदि तुम उन्हें पिता कहते हो, जो मनुष्यों के कामों के आधार पर बिना पक्षपात के निर्णय करते हैं तो तुम पृथ्वी पर अपने रहने का समय उन्हीं के भय में बिताओ, 18 इस अहसास के साथ कि पूर्वजों से चली आ रही तुम्हारे निकम्मे चाल-चलन से तुम्हारी छुटकारा नाशमान सोने-चांदी के द्वारा नहीं, 19 परन्तु मसीह के बहुमूल्य लहू से हुआ है—निर्दोष और निष्कलंक मेमने के लहू से. 20 यद्यपि वह सृष्टि के पहले से ही चुने हुए थे किन्तु इन अन्तिम दिनों में तुम्हारे लिए प्रकट हुए हैं. 21 तुम, जो प्रभु द्वारा परमेश्वर में विश्वास करते हो, जिन्होंने उन्हें मरे हुओं में से जीवित कर महिमित किया, जिसके परिणामस्वरूप तुम्हारा विश्वास और आशा परमेश्वर में है.

22 इसलिए कि तुमने उस सच्चाई की आज्ञा मानने के द्वारा अपनी आत्मा को निश्छल भाईचारे के लिए पवित्र कर लिया है, अब तुम में आपस में उत्तम हार्दिक प्रेम ही देखा जाए. 23 तुम्हारा नया जन्म नाशमान नहीं परन्तु अनन्त जीवन तत्व अर्थात् परमेश्वर के जीवित और सदा ठहरने वाले वचन के द्वारा हुआ है 24 क्योंकि

सभी मनुष्य घास के समान
    तथा उनकी शोभा जंगली फ़ूलों के समान है;
घास मुरझा जाती तथा फ़ूल झड़ जाता है;
25     परन्तु प्रभु का वचन युगानुयुग बना रहता है

यही है वह वचन, जो तुम्हें सुनाया गया था.