Јеврејима 1 NSP - इब्री 1 SHB

Јеврејима
Elegir capítulo 1

New Serbian Translation

Јеврејима 1

Христос је узвишенији од анђела

1Бог је много пута и на много начина говорио нашим прецима преко пророка, али у ове последње дане проговорио нам је преко Сина, кога је одредио за власника свега, чијим посредством је и свет створио. Он је одсјај Божије славе, и верни одраз његовога бића, он који све одржава силом своје речи. Па пошто изврши очишћење греха, седе у небу с десне стране Бога величанственога. Тако постаде толико моћнији од анђела, колико му Бог даде име узвишеније од њиховог.

Зар је коме од анђела икад рекао:

„Ти си Син мој,
    данас си се мени родио“,

и поново:

„Ја ћу му бити Отац,
    а он ће ми бити Син“?

А затим, кад је слао Прворођенца на свет, рече:

„Нека му се поклоне сви анђели Божији.“

За анђеле, пак, каже:

„Он своје анђеле чини ветровима[a],
    и своје слуге огњеним пламеновима.“

А за Сина каже:

„Твој је престо, Боже, у веке векова!
    Жезло је правде жезло твога царства.
Волиш правду, а мрзиш неправду.
    Зато те је Бог, твој Бог,
    помазао уљем радости,
    више него твоје другове.“

10 Такође каже:

„Ти си, Господе, у почетку утемељио земљу,
    и небеса су дело твојих руку.
11 Она ће пропасти, али ти ћеш остати,
    и све ће се исхабати као изношена одећа.
12 Сложићеш их као огртач,
    измениће се као одећа.
А ти си увек исти,
    веку твоме нигде краја нема.“

13 И коме је од анђела икад рекао:

„Седи мени с моје десне стране,
    док душмане не положим твоје,
за твоје ноге постоље да буду“?

14 Нису ли сви анђели – духови послати од Бога да служе онима који треба да приме у посед спасење?

Notas al pie

  1. 1,7 Ветровима или духовима.

Saral Hindi Bible

इब्री 1

पुत्र में परमेश्वर का सारा सम्वाद

1पूर्व में परमेश्वर ने भविष्यद्वक्ताओं के माध्यम से हमारे पूर्वजों से अनेक समय खण्डों में विभिन्न प्रकार से बातें कीं किन्तु अब इस अन्तिम समय में उन्होंने हमसे अपने पुत्र के द्वारा बातें की हैं, जिन्हें परमेश्वर ने सारी सृष्टि का वारिस चुना और जिनके द्वारा उन्होंने युगों की सृष्टि की. पुत्र ही परमेश्वर की महिमा का प्रकाश तथा उनके तत्व का प्रतिबिंब है. वह अपने सामर्थ्य के वचन से सारी सृष्टि को स्थिर बनाये रखता है. जब वह हमें हमारे पापों से धो चुके, वह महिमामय ऊँचे पर विराजमान परमेश्वर की दायीं ओर में बैठ गए. वह स्वर्गदूतों से उतने ही उत्तम हो गए जितनी स्वर्गदूतों से उत्तम उन्हें प्रदान की गई महिमा थी.

पुत्र स्वर्गदूतों से उत्तम हैं

भला किस स्वर्गदूत से परमेश्वर ने कभी यह कहा:

“तुम मेरे पुत्र हो,
    आज मैं तुम्हारा पिता हो गया हूँ?”

तथा यह:

“उसके लिए मैं पिता हो जाऊँगा और वह मेरा पुत्र?”

और तब, वह अपने पहिलौठे पुत्र को संसार के सामने प्रस्तुत करते हुए कहते हैं:

“परमेश्वर के सभी स्वर्गदूत उनके पुत्र की वन्दना करें”.

स्वर्गदूतों के विषय में उनका कहना है:

“वह अपने स्वर्गदूतों को हवा में और अपने सेवकों को
    आग की लपटों में बदल देते हैं”.

किन्तु पुत्र के विषय में उनका कथन है:

“परमेश्वर! तुम्हारा सिंहासन युगानुयुग का है,
    तथा तुम अपने राज्य का शासन न्याय के साथ करोगे.
तुमने धार्मिकता का पक्ष लिया और अधर्म से घृणा की है.
    तुम्हारे साथियों में से तुम्हें चुनकर मैंने आनन्द के तेल से तुम्हारा अभिषेक किया है”.

10 और,

“प्रभु! तुमने प्रारम्भ में ही पृथ्वी की नींव रखी तथा आकाशमण्डल
    तुम्हारे ही हाथों की कारीगरी है.
11 वे तो मिट जाएँगे किन्तु तुम्हारा अस्तित्व सनातन है.
    वे सभी वस्त्रों जैसे पुराने हो जाएँगे.
12 तुम उन्हें चादर के समान लपेट दोगे;
    उन्हें वस्त्र के समान बदल दिया जाएगा—किन्तु तुम वैसे ही रहोगे.
तुम्हारे जीवनकाल का अन्त कभी न होगा”.

13 भला किस स्वर्गदूत से परमेश्वर ने यह कहा:

मेरी दायीं ओर में बैठ जाओ,
    जब तक मैं तुम्हारे शत्रुओं को तुम्हारे चरणों की चौकी न बना दूँ?

14 क्या सभी स्वर्गदूत सेवा के लिए चुनी आत्माएँ नहीं हैं कि वे उनकी सेवा करें, जो उद्धार पाने वाले हैं?