Chinese Contemporary Bible (Traditional)

提摩太前書 3:1-16

監督與執事的資格

1「人若渴望做教會的監督,他是在愛慕尊貴的工作。」這句話千真萬確。 2作監督的人必須無可指責,只有一位妻子,為人節制自律、通情達理、受人尊敬、樂於接待客旅、善於教導, 3不酗酒、不好鬥、要溫和、不爭吵、不貪財, 4善於管理自己的家,受兒女的敬重和孝順。 5一個人要是不懂得管理自己的家,又怎能照顧上帝的教會呢? 6初信主的人不可作監督,免得他自高自大,遭受魔鬼所受的懲罰。 7作監督的在教會以外也必須有好名聲,以免被人指責,陷入魔鬼的圈套。

8同樣,做執事的也要品行端正,說話誠實,不好酒,不貪財, 9要存著清潔的良心持守奧妙的真道。 10他們要先接受考驗,倘若無可指責,就可以立他們為執事。 11執事的妻子3·11 執事的妻子」或譯「女執事」。也要品行端正,不搬弄是非,為人節制,做事忠心。 12執事只能有一位妻子,他要管好自己的兒女和自己的家。 13盡忠職守的執事能得到好聲譽,也會對基督耶穌有堅定的信心。

奧妙無比的信仰

14我希望能儘快去你那裡,但還是寫信告訴你這些事。 15這樣,如果我行期延誤,你也可以知道在上帝的家中該怎麼做。這家是永活上帝的教會,是真理的柱石和根基。 16毫無疑問,我們偉大的信仰奧妙無比:

祂以肉身顯現,

被聖靈證明為義,

被天使看見,

被傳揚到列邦,

被世人信奉,

被接到天上的榮耀中。

New Chhattisgarhi Translation (नवां नियम छत्तीसगढ़ी)

1 तीमुथियुस 3:1-16

पास्टर अऊ डीकन

1ए बात सही ए: कि कहूं कोनो मनखे पास्टर बने चाहथे, त ओह बहुंत बढ़िया काम करे के ईछा करथे। 2पास्टर ला बिलकुल निरदोस होना चाही। ओकर सिरिप एकेच घरवाली होवय। ओह संयमी, सुसील, सभ्य, पहुनई करइया अऊ बने गुरू होवय। 3ओह पियक्‍कड़ या मारपीट करइया झन होवय, पर नरम सुभाव के होवय। ओह न झगरा करइया अऊ न रूपिया-पईसा के लोभी होवय। 4ओह अपन परिवार के सुघर परबंध करइया होवय, अऊ ओह ए देखय कि ओकर लइकामन पूरा आदर-मान के संग ओकर बात मानंय। 5(कहूं कोनो अपन खुद के परिवार के परबंध नइं कर सकय, त फेर ओह परमेसर के कलीसिया के खियाल कइसने रख सकथे?) 6ओह नवां मसीही झन होवय, नइं तो ओला घमंड हो सकथे अऊ सैतान के सहीं दंड पा सकथे। 7कलीसिया के बाहिर के मनखेमन म घलो ओकर बने नांव होना चाही, ताकि ओकर निन्दा झन होवय अऊ ओह सैतान के फांदा म झन फंसय।

8एही किसम ले, डीकनमन ला घलो आदर के लइक होना चाही। ओमन ईमानदार होवंय अऊ पियक्‍कड़ अऊ नीच कमई के लोभी झन होवंय। 9ओमन बिसवास के गहिरा सच ला सही बिवेक के संग थामे रहंय। 10ओमन पहिली जरूर परखे जावंय अऊ यदि निरदोस निकरंय, त ओमन डीकन के काम करंय।

11ओही किसम ले, डीकनमन के घरवालीमन ला घलो आदर के लइक होना चाही। ओमन बकबक करइया झन होवंय, पर संयमी अऊ जम्मो बात म बिसवास के लइक होवंय3:11 यूनानी भासा के सबद “गुनाइका” (डीकन के घरवाली) के मतलब “माईलोगन” या “घरवाली” हो सकथे।

12डीकन के सिरिप एक घरवाली होवय अऊ ओह अपन लइकामन के अऊ घर के सुघर परबंध करय। 13जऊन मन बने सेवा करे हवंय, ओमन बने आदरमान पाथें अऊ मसीह यीसू म अपन बिसवास के दुवारा भरोसा के लइक समझे जाथें।

14हालाकि मेंह तोर करा जल्दी आय के आसा करत हंव, तभो ले तोला ए बात लिखत हवंव, 15ताकि कहूं मोर आय म देरी होवय, त तोला जानकारी होना चाही कि मनखेमन परमेसर के परिवार म कइसने बरताव करंय अऊ ए परिवार ह जीयत परमेसर के कलीसिया ए, जऊन ह परमेसर के सच के आधार ए अऊ एह सच ला थामे रहिथे। 16ए बात म कोनो संका नइं ए कि परमेसर के भक्ति के भेद ह महान ए:

ओह (मसीह) मनखे के रूप म परगट होईस,

पबितर आतमा के दुवारा साबित करे गीस,

स्वरगदूतमन ला दिखाई दीस,

जाति-जाति म ओकर परचार होईस,

जम्मो संसार म मनखेमन ओकर ऊपर बिसवास करिन,

अऊ ओह महिमा म स्‍वरग ऊपर उठा लिये गीस।