Chinese Contemporary Bible (Traditional)

創世記 16:1-16

夏甲與以實瑪利

1亞伯蘭的妻子撒萊沒有生育,她有個婢女名叫夏甲,是埃及人。 2撒萊亞伯蘭說:「耶和華不讓我生育,請你與我的婢女同房,也許我可以藉著她生子立後。」亞伯蘭同意了撒萊的話。 3於是,撒萊埃及婢女夏甲亞伯蘭做妾。那時亞伯蘭已經在迦南住了十年。 4亞伯蘭夏甲同房,她就懷了孕。夏甲知道自己懷了孕,就輕視女主人撒萊5撒萊亞伯蘭說:「我受氣都是因為你。我把婢女放在你懷裡,她仗著自己懷了孕就輕視我,願耶和華在你我之間主持公道。」 6亞伯蘭撒萊說:「婢女在你手中,隨你處置。」於是,撒萊苦待夏甲夏甲就逃走了。

7耶和華的天使在曠野中通往書珥之路的水泉旁找到了夏甲8便問她:「撒萊的婢女夏甲,你從哪裡來?要到哪裡去?」她回答說:「我是從女主人撒萊那裡逃出來的。」 9耶和華的天使對她說:「你要回到女主人那裡順服她。」 10又說:「我必使你的後代多得不可勝數。」 11接著又說:「你現在懷了孕,將來會生一個男孩,你要給他取名叫以實瑪利16·11 以實瑪利」意思是「上帝聽見了」。,因為耶和華已經聽見你痛苦的哀聲。 12這孩子性情必像野驢,他要跟人作對,人也要跟他作對。他必與他所有的弟兄為敵。」 13夏甲稱對她說話的耶和華為「看顧人的上帝」,她說:「我竟然在這裡看見了看顧我的上帝。」 14因此,她稱加低斯巴列之間的那口井為庇耳·拉海·萊16·14 庇耳·拉海·萊」意思是「看顧我的永恆上帝之井」。

15後來夏甲亞伯蘭生了一個兒子,亞伯蘭給他取名叫以實瑪利16夏甲以實瑪利時,亞伯蘭八十六歲。

Hindi Contemporary Version

उत्पत्ति 16:1-16

सारय तथा हागार

1अब्राम की पत्नी सारय निःसंतान थी. उसकी हागार नामक एक दासी थी, जो मिस्री थी; 2सारय ने अब्राम से कहा, “मैं तो मां नहीं बन सकती क्योंकि मैं बांझ हूं इसलिये कृपा करके आप मेरी दासी को स्वीकारें, संभवतः उसके द्वारा संतान का सुख पा सकूं.”

अब्राम ने सारय के इस बात को मान लिया. 3अब्राम को कनान देश में रहते हुए दस साल हो चुके थे. अब्राम की पत्नी सारय ने अपनी दासी हागार को अब्राम की पत्नी होने के लिए उनको सौंप दिया.

4अब्राम ने हागार के साथ शारीरिक संबंध बनाए; इस प्रकार हागार गर्भवती हुई तब हागार सारय को तुच्छ समझने लगी. 5सारय ने अब्राम से कहा, “मेरे साथ हो रहे उपद्रव का कारण आप हैं. मैंने अपनी दासी को केवल वारिस पाने के लिए आपको सौंपा था लेकिन हागार गर्भवती होते ही मुझे तुच्छ समझने लगी. अब याहवेह ही आपके तथा मेरे बीच न्याय करें.”

6अब्राम ने सारय से कहा, “सुनो, तुम्हारी दासी पर तुम्हारा ही अधिकार है. तुम जैसा चाहो उसके साथ करो.” तब सारय हागार को तंग करने लगी. हागार परेशान होकर सारय के सामने से भाग गई.

7जब याहवेह के स्वर्गदूत ने उसे जंगल में एक सोते के पास देखा; जो शूर के मार्ग पर था. 8तब स्वर्गदूत ने उससे पूछा, “हे सारय की दासी हागार, कहां से आ रही हो? और कहां जा रही हो?”

हागार ने उत्तर दिया, “मैं अपनी स्वामिनी सारय के पास से भागकर आई हूं.”

9याहवेह के स्वर्गदूत ने कहा, “अपनी स्वामिनी के पास वापस चली जाओ और उसके अधीन में रहो.” 10और याहवेह के स्वर्गदूत ने कहा, “मैं तुम्हारे वंश को बहुत बढाऊंगा, इतना कि उनकी गिनती करना मुश्किल होगा.”

11याहवेह के स्वर्गदूत ने यह भी कहा:

“देखो, तुम एक पुत्र को जन्म दोगी.

उसका नाम तुम इशमाएल रखना,

क्योंकि याहवेह ने तुम्हारे दुख पर ध्यान दिया है.

12वह जंगली गधे के प्रकृति का पुरुष होगा;

उसकी सबसे दुश्मनी होगी

और सबको उससे दुश्मनी होगी,

और वह अपने संबंधियों के साथ

शत्रुतापूर्ण वातावरण में जीवन व्यतीत करेगा.”

13तब हागार ने याहवेह का जिन्होंने उससे बात की थी, यह नाम रखा: “अत्ता-एल-रोई,” (अर्थात याहवेह ने मेरे दुख की ओर ध्यान दिया इस जंगल में परमेश्वर ने मुझे पुकारा!) 14इस घटना के कारण उस कुएं का नाम बएर-लहाई-रोई16:14 मुझे देखनेवाले जीवित (परमेश्वर) का कुंआ पड़ा, जो कादेश तथा बेरेद के बीच में है.

15अब्राम से हागार का एक बेटा हुआ तथा अब्राम ने अपने इस बेटे का नाम इशमाएल रखा. 16अब्राम छियासी वर्ष के थे, जब इशमाएल पैदा हुआ.