Chinese Contemporary Bible (Simplified)

撒迦利亚书 10:1-12

耶和华应许拯救以色列

1要在春季向耶和华求雨。

祂创造雷雨,

为世人降下甘霖,

使田间长出青翠之物。

2因为神像说的是虚言,

占卜者讲的是谎话,

他们说的是假梦,

他们的安慰是空的。

所以人们如迷失的羊,

因没有牧人而受苦。

3“我必向牧人发怒,

我必惩罚这些首领10:3 首领”希伯来文作“公山羊”。

因为我——万军之耶和华必眷顾我的羊群犹大家,

我必使他们像战场上的骏马。

4房角石、帐篷的橛子、战弓,

以及所有掌权者必出自犹大

5他们必像战场上的勇士,

将仇敌践踏在街上的泥土中。

他们必争战,

因为耶和华与他们同在。

他们必使敌方的骑兵蒙羞。

6“我必使犹大家强盛,

我必拯救约瑟家。

我必带他们回到故土,

因为我怜悯他们。

他们必好像从未被我抛弃一样,

因为我是他们的上帝耶和华,

我必应允他们的祷告。

7以法莲人必如勇士,

他们必心里快乐,如同喝了酒,

他们的儿女见状也必快乐,

他们必因耶和华而欢心。

8“我必吹哨聚集他们,

因为我救赎了他们,

他们必像从前一样人数众多。

9虽然我把他们分散到列国,

他们必在远方想起我,

他们及其子女必得以幸存,

并且回到故土。

10我必从埃及领他们回到故土,

亚述招聚他们,

领他们到基列黎巴嫩

那里将不够他们居住。

11祂必经过苦海,

击打海浪,

尼罗河必干涸,

亚述的骄傲必扫地,

埃及的势力必灭没。

12我必让他们靠着我强盛,

他们必奉我的名行事。

这是耶和华说的。”

Hindi Contemporary Version

ज़करयाह 10:1-12

याहवेह यहूदिया का देखरेख करेंगे

1याहवेह से विनती करो कि वह वसन्त ऋतु में वर्षा भेजें;

यह याहवेह ही है जो बादलों को गरजाता और आंधी लाता है.

वह सब लोगों को वर्षा देते,

और हर एक के लिए खेत में पौधा उपजाते हैं.

2मूर्तियां धोखा देनेवाली बात कहते हैं,

और भावी कहनेवाले झूठे दर्शन देखते हैं;

वे झूठे स्वप्न के बारे में बताते हैं,

और वे व्यर्थ में सांत्वना देते हैं.

इसलिये चरवाहे की कमी के कारण दुख से

लोग भेड़ की तरह भटकते हैं.

3“मेरा क्रोध चरवाहों पर भड़क रहा है,

ओर मैं अगुवों को दंड दूंगा;

क्योंकि सर्वशक्तिमान याहवेह अपनी झुंड

अर्थात यहूदाह के लोगों की देखरेख करेगा,

और वह उन्हें युद्ध में गर्व करनेवाले घोड़े के समान बनाएगा.

4यहूदाह से कोने का पत्थर आयेगा,

उससे तंबू की खूंटी,

उससे युद्ध का धनुष,

और उससे ही हर एक शासक आएंगे.

5एक साथ वे युद्ध में उन योद्धाओं के समान होंगे,

जो गली के कीचड़ में अपने शत्रुओं को रौंदते हैं.

वे लड़ेंगे क्योंकि याहवेह उनके साथ है,

और वे शत्रु के घुड़सवारों को लज्जित करेंगे.

6“मैं यहूदाह के लोगों को मजबूत करूंगा

और योसेफ़ के वंश को बचाऊंगा.

उनके प्रति अपनी करुणा के कारण

मैं उन्हें लौटा ले आऊंगा.

वे ऐसे हो जाएंगे

मानो मैंने उन्हें कभी त्यागा ही न था,

क्योंकि मैं उनका परमेश्वर याहवेह हूं

इसलिये मैं उनकी सुनकर उन्हें उत्तर दूंगा.

7तब एफ्राईमी लोग योद्धा के समान हो जाएंगे,

उनका हृदय ऐसा प्रफुल्लित होगा, जैसा दाखमधु पीने से होता है.

उनके बच्चे इसे देखकर आनंदित होंगे;

और उनका मन याहवेह में आनंदित होगा.

8मैं उन्हें संकेत देकर

इकट्ठा करूंगा.

निश्चित रूप से, मैं उन्हें छुड़ाऊंगा;

वे पहले की तरह असंख्य हो जाएंगे.

9यद्यपि मैंने उन्हें लोगों के बीच में बिखरा दिया है,

फिर भी उन दूर देशों में वे मुझे स्मरण करेंगे.

वहां वे और उनकी संतान बचे रहेंगे,

और वे लौट आएंगे.

10मैं उन्हें मिस्र देश से लौटा लाऊंगा

और उन्हें अश्शूर देश से इकट्ठा करूंगा.

मैं उन्हें गिलआद और लबानोन देश में ले आऊंगा,

और उन्हें इतना बढ़ाऊंगा कि वहां उनके लिये पर्याप्त जगह न होगी.

11वे समस्याओं के समुद्र से होकर गुज़रेंगे;

समुद्र की बड़ी लहरें शांत कर दी जाएंगी

नील नदी का सब गहरा जल सूख जाएगा.

अश्शूरियों का घमंड तोड़ दिया जाएगा

और मिस्र का राजदंड जाता रहेगा.

12मैं उन्हें याहवेह में मजबूत करूंगा

और वे उसके नाम में सुरक्षित रहा करेंगे.”

याहवेह का यह घोषणा है.