彼得前书 3 – CCB & NCA

Chinese Contemporary Bible (Simplified)

彼得前书 3:1-22

夫妻之道

1-2照样,做妻子的要顺服丈夫。这样,即使丈夫不信从真道,也会因为看见妻子贞洁和敬虔的品行而被无声地感化。 3你们不要注重外表的妆饰,像编头发、戴金饰或穿华丽的衣服, 4要以温柔、娴静这些永不褪色的内在美为妆饰,这是上帝所看重的。 5从前那些仰赖上帝的圣洁妇女,都是以这些来妆饰自己,并顺服自己的丈夫, 6正如撒拉顺服亚伯拉罕,称他为主人。所以,如果你们做对的事,不怕恐吓,就是撒拉的女儿。

7你们做丈夫的也一样,要按情理3:7 按情理”希腊文是“按知识”。与妻子共同生活,因为她们比你们软弱。要敬重她们,因为她们和你们一同承受上帝施恩赐下的生命。这样,你们的祷告就可以畅通无阻了。

要为义受苦

8总而言之,你们要同心合意,互相关怀,彼此相爱,仁慈谦虚。 9不要以恶报恶,以辱骂还辱骂,反要祝福对方,这是你们蒙召的目的,好叫你们得到祝福。 10因为圣经上说:

“若有人热爱生命,

渴望幸福,

就要舌头不出恶言,

嘴唇不说诡诈的话。

11要弃恶行善,竭力追求和睦。

12因为主的眼睛看顾义人,

祂的耳朵垂听他们的祈求。

但主必严惩作恶之人。”

13如果你们热心行善,有谁会害你们呢? 14就算你们为义受苦,也是有福的。不要害怕别人的恐吓3:14 不要害怕别人的恐吓”或译“不要怕别人所怕的”。,也不要惊慌, 15要心里尊基督为主。如果有人问起你们心中的盼望,你们要随时准备答复, 16但态度要温和恭敬,存无愧的良心。这样,那些对你们因信基督而有的好品行妄加诬蔑的人会自觉羞愧。 17如果上帝的旨意是要你们因行善而受苦,这也总比你们因作恶而受苦强。

18因为基督也曾一次为罪受苦,以无罪之身代替不义之人,为要领你们到上帝面前。祂的肉体虽被处死,但祂借着圣灵复活了。 19祂还借着圣灵向那些监狱中的灵魂传道, 20他们就是从前在挪亚造方舟、上帝耐心等候人们悔改的时代中那些不肯信的人。当时进入方舟,从洪水中得救的人很少,只有八个人。 21这水代表的洗礼现在借着耶稣基督的复活也拯救了你们。这洗礼要表明的不是除掉肉体的污秽,而是求在上帝面前有无愧的良心。 22基督已经升到天上,坐在上帝的右边,众天使、掌权的、有能力的都服从了祂。

New Chhattisgarhi Translation (नवां नियम छत्तीसगढ़ी)

1 पतरस 3:1-22

घरवाली अऊ घरवाला,

1हे घरवालीमन हो, तुमन अपन-अपन घरवाला के अधीन रहव, ताकि कहूं ओमन ले कोनो परमेसर के बचन ऊपर बिसवास नइं करय, त ओमन घरवाली के सुघर बरताव के दुवारा जीते जा सकंय; 2जब ओमन तुमन के सुधता अऊ बने चाल-चलन ला देखंय। 3तुमन के सुघरता बाहिरी सिंगार के दुवारा झन होवय, जइसने कि बाल गुंथई, अऊ सोन के गहना अऊ आने-आने किसम के कपड़ा पहिरई। 4एकर बदले, तुमन म भीतरी मनखे के गुन, नमरता अऊ सांत सुभाव के सुघरता होना चाही, जऊन ह नइं मुरझावय अऊ अइसने बातमन परमेसर के नजर म बहुंत कीमती होथें। 5एही किसम ले, पहिली जमाना के पबितर माईलोगनमन, जऊन मन अपन आसा परमेसर के ऊपर रखत रिहिन, अपन-आप ला सुघर बनाय करत रिहिन। ओमन अपन घरवालामन के अधीन रहत रिहिन। 6जइसने कि सारा ह अब्राहम के बात मानय अऊ ओला अपन सु‍वामी कहय। कहूं तुमन भलई करव अऊ कोनो चीज ले झन डर्रावव, त तुमन ओकर बेटी अव।

7हे घरवालामन हो, ओही किसम ले अपन-अपन घरवाली के संग रहत समझदार बनव अऊ ओला निरबल संगी जानके अऊ अपन संग ओला जिनगी के बरदान के वारिस जानके ओकर आदर करव, ताकि तुम्‍हर पराथना म कोनो बाधा झन पड़य।

भलई करे म दुःख सहई

8आखिरी म, तुमन जम्मो एक मन होके रहव; सहानुभूति रखव; भाईमन सहीं मया करव; दयालु अऊ नम्र बनव। 9बुरई के बदले बुरई या बेजत्ती के बदले बेजत्ती झन करव, पर बदले म आसिस देवव काबरकि तुमन एकरे बर बलाय गे हवव, ताकि तुमन ला आसिस मिलय। 10जइसने कि परमेसर के बचन ह कहिथे,

“जऊन कोनो, जिनगी ले मया करे चाहथे

अऊ सुघर दिन देखे के ईछा करथे,

ओकर बर जरूरी अय कि ओह अपन जीभ ला बुरई ले

अऊ अपन होंठ ला छल-कपट के बात ले दूरिहा रखय।

11ए जरूरी अय कि ओह बुरई ला छोंड़के भलई करय;

अऊ ए घलो जरूरी अय कि ओह सांति के खोज करय अऊ ओकर पाछू लगे रहय।

12काबरकि परभू के नजर धरमीमन ऊपर लगे रहिथे,

अऊ ओकर कान ह ओमन के पराथना ला सुनथे,

पर परभू ह बुरई करइयामन के बिरोध करथे।”3:12 भजन-संहिता 34:12-16

13यदि तुमन भलई करे बर उत्सुक हवव, त तुम्‍हर हानि कोन करही? 14पर कहूं तुमन बने काम करे के कारन दुःख उठाथव, त तुमन आसिस पाहू। मनखेमन ले झन डरव अऊ न घबरावव।3:14 यसायाह 8:12 15पर अपन हिरदय म मसीह ला पबितर परभू के रूप म जानव। जऊन कोनो तुमन ला तुम्‍हर आसा के बिसय म कुछू पुछय, त ओला जबाब देय बर हमेसा तियार रहव। 16पर ए काम ला सुध बिवेक म, नमरता अऊ आदर के संग करव ताकि मसीह म तुम्‍हर बने चाल-चलन के बिरोध म, जऊन मन खराप बात कहिथें, ओमन अपन बात ले सरमिन्‍दा होवंय। 17कहूं ए परमेसर के ईछा अय, त बुरई करके दुःख भोगे के बदले, भलई करके दुःख भोगे ह बने अय। 18काबरकि मसीह ह याने धरमी ह अधरमीमन खातिर या तुम्‍हर पाप खातिर जम्मो के सेति एकेच बार मरिस कि ओह तुमन ला परमेसर करा लानय। ओह देहें म मारे गीस, पर आतमा के दुवारा जीयाय गीस, 19अऊ आतमिक दसा म, ओह जाके कैदी आतमामन ला परचार करिस, 20जऊन मन बहुंत पहिली परमेसर के हुकूम नइं मानिन, जब परमेसर ह नूह के दिन म धीर धरके इंतजार करत रहय, अऊ पानी जहाज ह बनत रहय। जहाज म सिरिप थोरकन मनखे याने जम्मो मिलाके आठ झन पानी ले बंचिन3:20 “नूह” – देखव इबरानीमन 11:7; 21अऊ ए पानी ह बतिसमा के चिन्‍हां अय, जऊन ह अब तुमन ला घलो बचाथे। एह देहें के मइल धोवई नो हय, पर एह सुध बिवेक म परमेसर ले एक वायदा करई अय। यीसू मसीह के फेर जी उठे के दुवारा, ए बतिसमा ह तुमन ला बचाथे। 22यीसू मसीह ह स्‍वरग चले गीस, अऊ ओह परमेसर के जेवनी हांथ कोति हवय अऊ जम्मो स्‍वरगदूत, अधिकार अऊ सामरथ ओकर अधीन म हवंय।