Akuapem Twi Contemporary Bible

Yesaia 66:1-24

Atemmu Ne Anidaso

1Sɛɛ na Awurade se:

“Ɔsoro yɛ mʼahengua,

na asase yɛ me nan ntiaso.

Ofi a wubesi ama me no wɔ he?

Ɛhe na ɛbɛyɛ me homebea?

2Ɛnyɛ me nsa na ɛyɛɛ eyinom nyinaa,

na ɛma ɛbae ana?”

Awurade na ose.

“Obi a mʼani sɔ no ni:

nea ɔwɔ ahobrɛase ne ahonu honhom,

na ne ho popo wɔ mʼasɛm ho.

3Nanso obi a ɔde nantwinini bɔ afɔre no

saa onipa no ara kum nnipa,

na nea ɔma oguamma no,

saa onipa no ara bu ɔkraman kɔn mu;

nea ɔbɔ aduan afɔre no

saa onipa no ara de prako mogya bɔ afɔre,

nea ɔhyew nnuhuam a ɛwɔ din no

saa onipa no ara som ɔbosom.

Wɔafa wɔn ankasa akwan

na wɔn akra ani gye wɔn akyiwade ho;

4enti me nso mɛpɛ ayayade ayɛ wɔn

na mede nea wosuro bɛba wɔn so.

Efisɛ mefrɛe no, obiara annye so,

mekasae no, obiara antie.

Wɔyɛɛ bɔne wɔ mʼani so

na wɔyɛɛ nea mempɛ.”

5Muntie Awurade asɛm,

mo a mote nʼasɛm a mo ho popo:

“Mo nuanom mmarima a wɔtan mo,

na me din nti wotwa mo gyaw no, aka se,

‘Momma wɔnhyɛ Awurade anuonyam,

na yɛahu mo anigye!’

Nanso wɔn anim begu ase.

6Muntie huuyɛ a efi kuropɔn no mu,

muntie gyegyeegye a efi asɔredan no mu!

Ɛyɛ Awurade nnyigyei

a ɔde retua nʼatamfo ka sɛnea ɛfata wɔn.

7“Ansa na ɔbea bɛkyem no,

ɔwo;

ansa na ɔbɛte awoyaw no

ɔwo ɔbabarima.

8Hena na wate biribi sɛɛ ho asɛm pɛn?

Hena na wahu biribi sɛɛ pɛn?

Wobetumi de da koro akyekyere ɔmansin,

anaa ɔman mu, bere sin bi mu ana?

Nanso awo ka Sion ara pɛ a

ɔwo ne mma.

9Mede obi bedu awoko ano a

memma no nwo ana?” Sɛnea Awurade se ni.

“Misiw awotwaa ano

bere a awo adu so ana?” Wo Nyankopɔn na ose.

10Mo ne Yerusalem ani nnye na munni ahurusi mma no,

mo a modɔ no nyinaa;

mo ne no nsɛpɛw mo ho yiye,

mo a mudi ne ho awerɛhow nyinaa.

11Mubenum nʼawerɛkyekye nufu

no amee;

mobɛnom aboro so

na mo ani begye nea abu so atra so no ho.

12Na sɛɛ na Awurade se:

“Mede asomdwoe bɛma no sɛ asubɔnten,

ne amanaman no ahonya nso sɛ asuten a ayiri.

Mubenum na waturu mo wɔ ne basa so

na obegyigye mo agoru wɔ nʼanankoroma so.

13Sɛnea ɛna kyekye ne ba werɛ no

saa ara na mɛkyekye mo werɛ;

na mubenya awerɛkyekye wɔ Yerusalem.”

14Sɛ muhu eyi a, mo koma ani begye

na mobɛyɛ frɔmfrɔm sɛ sare;

wobehu Awurade nsa wɔ ne nkoa so,

nanso wobehu nʼabufuwhyew wɔ nʼatamfo so.

15Hwɛ, Awurade de ogya reba,

na ne nteaseɛnam te sɛ mfɛtɛ;

ɔde nʼabufuw bɛba wɔ anibere so,

na ɔde gyaframa ayɛ nʼanimka.

16Ogya ne nʼafoa,

na Awurade de bebu nnipa nyinaa atɛn,

na wɔn a wɔbɛtotɔ wɔ Awurade nsa ano bɛyɛ bebree.

17“Wɔn a wɔtew wɔn ho na wodwira wɔn ho de kɔ nturo mu, na wodi ɔbaako a ɔfra wɔn a wɔwe mprakonam ne akisi ne nneɛma a ɛyɛ akyiwade akyi no, wɔbɛbɔ mu ahu wɔn awiei,” sɛnea Awurade se ni.

18“Esiane wɔn nneyɛe ne wɔn nsusuwii nti, Me, mereba abɛboaboa amanaman ne ɔkasa ahorow ano, na wɔbɛba abehu mʼanuonyam.

19“Na mɛyɛ nsɛnkyerɛnne bi wɔ wɔn mu, na mede nkae no mu bi bɛkɔ amanaman no mu: Tarsis, Libiafo ne Lidiafo (wɔn a wɔagye din wɔ agyantow mu), Tubal ne Helafo, ne asupɔw a ɛwɔ akyirikyiri a wɔntee me din a ahyeta na wonhuu mʼanuonyam no. Wɔbɛpae mu aka mʼanuonyam wɔ amanaman mu. 20Na wɔde mo nuabarimanom nyinaa befi amanaman nyinaa so bɛba me bepɔw kronkron a ɛwɔ Yerusalem no so sɛ, afɔrebɔde ama Awurade. Wɔtete apɔnkɔ so ne nteaseɛnam mu ne asako mu ne mfurumpɔnkɔ ne yoma so bɛba,” sɛɛ na Awurade se. “Wɔde wɔn bɛba sɛnea Israelfo de wɔn aduan afɔre kɔ Awurade asɔredan mu, wɔ afahyɛ nkuruwa a ho tew mu. 21Na meyi wɔn mu bi ayɛ asɔfo ne Lewifo,” Awurade, na ose!

22“Sɛnea ɔsorosoro foforo ne asase foforo bɛtena hɔ no, saa ara na mo din ne mo asefo bɛtena hɔ,” sɛnea Awurade se ni. 23“Efi Ɔsram Foforo baako kɔpem foforo, efi Homeda baako kosi foforo no, adesamma nyinaa bɛba abɛkotow me,” sɛnea Awurade se ni. 24“Na wobefi adi akohu wɔn a wɔtew atua tiaa me no afunu; wɔn asunson renwu, na wɔn gya nso rennum, na wɔn ho bɛyɛ adesamma nyinaa nwini.”

Hindi Contemporary Version

यशायाह 66:1-24

1याहवेह यों कहते हैं:

“स्वर्ग मेरा सिंहासन है,

तथा पृथ्वी मेरे चरणों की चौकी है.

तुम मेरे लिये कैसा भवन बनाओगे?

कहां है वह जगह जहां मैं आराम कर सकूंगा?

2क्योंकि ये सब मेरे ही हाथों से बने,

और ये सब मेरे ही हैं.”

यह याहवेह का वचन है.

“परंतु मैं उसी का ध्यान रखूंगा:

जो व्यक्ति दीन और दुखी हो,

तथा जो मेरे आदेशों का पालन सच्चाई से करेगा.

3जो बैल की बलि करता है

वह उस व्यक्ति के समान है जो किसी मनुष्य को मार डालता है,

और जो मेमने की बलि चढ़ाता है

वह उस व्यक्ति के समान है जो किसी कुत्ते की गर्दन काटता है;

जो अन्नबलि चढ़ाता है

वह उस व्यक्ति के समान है जो सूअर का लहू चढ़ाता है,

और जो धूप जलाता है

उस व्यक्ति के समान है जो किसी मूर्ति की उपासना करता है.

क्योंकि उन्होंने तो अपना-अपना मार्ग चुन लिया है,

और वे अपने आपको संतुष्ट करते हैं;

4अतः उनके लिए दंड मैं निर्धारित करके उन्हें वही दंड दूंगा,

जो उनके लिए कष्ट से भरा होगा.

क्योंकि जब मैंने बुलाया, तब किसी ने उत्तर नहीं दिया,

जब मैंने उनसे बात की, तब उन्होंने सुनना न चाहा.

उन्होंने वही किया जो मेरी दृष्टि में बुरा है,

और उन्होंने वही चुना जो मुझे अच्छा नहीं लगता.”

5तुम सभी जो याहवेह के वचन को मानते हो सुनो:

“तुम्हारे भाई बंधु जो तुमसे नफरत करते हैं,

जो तुम्हें मेरे नाम के कारण अलग कर देते हैं,

‘वे यह कह रहे हैं कि याहवेह की महिमा तो बढ़े,

जिससे हम देखें कि कैसा है तुम्हारा आनंद.’

किंतु वे लज्जित किए जाएंगे.

6नगर से हलचल तथा मंदिर से

एक आवाज सुनाई दे रही है!

यह आवाज याहवेह की है

जो अपने शत्रुओं को उनके कामों का बदला दे रहे हैं.

7“प्रसव-वेदना शुरू होने के पहले ही,

उसका प्रसव हो गया;

पीड़ा शुरू होने के पहले ही,

उसे एक पुत्र उत्पन्न हो गया.

8क्या कभी किसी ने ऐसा सुना है?

किसकी दृष्टि में कभी ऐसा देखा गया है?

क्या यह हो सकता है कि एक ही दिन में एक देश उत्पन्न हो जाए?

क्या यह संभव है कि एक क्षण में ही राष्ट्र बन जायें?

जैसे ही ज़ियोन को प्रसव पीड़ा शुरू हुई

उसने अपने पुत्रों को जन्म दे दिया.

9याहवेह यह पूछते हैं.

क्या मैं प्रसव बिंदु तक लाकर

प्रसव को रोक दूं?

अथवा क्या मैं जो गर्भ देता हूं,

क्या मैं गर्भ को बंद कर दूं?

10तुम सभी जिन्हें येरूशलेम से प्रेम है,

येरूशलेम के साथ खुश होओ, उसके लिए आनंद मनाओ;

तुम सभी जो उसके लिए रोते थे,

अब खुश हो जाओ.

11कि तुम उसके सांत्वना देनेवाले स्तनों से

स्तनपान कर तृप्त हो सको;

तुम पियोगे

तथा उसकी बहुतायत तुम्हारे आनंद का कारण होगा.”

12क्योंकि याहवेह यों कहते हैं:

“तुम यह देखोगे, कि मैं उसमें शांति की नदी के समान,

और अन्यजातियों के धन को बाढ़ में बहा दूंगा;

और तुम उसमें से पियोगे तथा तुम गोद में उठाए जाओगे

तुम्हें घुटनों पर बैठाकर पुचकारा जाएगा.

13तुम्हें मेरे द्वारा उसी तरह तसल्ली दी जाएगी,

जिस तरह माता तसल्ली देती है;

यह तसल्ली येरूशलेम में ही दी जाएगी.”

14तुम यह सब देखोगे, तथा तुम्हारा मन आनंद से भर जाएगा

और तुम्हारी हड्डियां नई घास के समान हो जाएंगी;

याहवेह का हाथ उनके सेवकों पर प्रकट होगा,

किंतु वह अपने शत्रुओं से क्रोधित होंगे.

15याहवेह आग में प्रकट होंगे,

तथा उनके रथ आंधी के समान होंगे;

उनका क्रोध जलजलाहट के साथ,

तथा उनकी डांट अग्नि ज्वाला में प्रकट होगी.

16क्योंकि आग के द्वारा ही याहवेह का न्याय निष्पक्ष होगा

उनकी तलवार की मार सब प्राणियों पर होगी,

याहवेह द्वारा संहार किए गये अनेक होंगे.

17याहवेह ने कहा, “वे जो अपने आपको पवित्र ओर शुद्ध करते हैं ताकि वे उन बागों में जाएं, और जो छुपकर सूअर या चूहे का मांस तथा घृणित वस्तुएं खाते हैं उन सभी का अंत निश्चित है.

18“क्योंकि मैं, उनके काम एवं उनके विचार जानता हूं; और मैं सब देशों तथा भाषा बोलनेवालों को इकट्ठा करूंगा, वे सभी आएंगे तथा वे मेरी महिमा देखेंगे.

19“उनके बीच मैं एक चिन्ह प्रकट करूंगा, तथा उनमें से बचे हुओं को अन्यजातियों के पास भेजूंगा. तरशीश, पूत, लूद, मेशेख, तूबल तथा यावन के देशों में, जिन्होंने न तो मेरा नाम सुना है, न ही उन्होंने मेरे प्रताप को देखा है, वहां वे मेरी महिमा को दिखाएंगे. 20तब वे सब देशों में से तुम्हारे भाई-बन्धु याहवेह के लिए अर्पण समान अश्वों, रथों, पालकियों, खच्चरों एवं ऊंटों को लेकर येरूशलेम में मेरे पवित्र पर्वत पर आएंगे. जिस प्रकार इस्राएल वंश याहवेह के भवन में शुद्ध पात्रों में अन्नबलि लेकर आएंगे. 21तब उनमें से मैं कुछ को पुरोहित तथा कुछ को लेवी होने के लिए अलग करूंगा,” यह याहवेह की घोषणा है.

22“क्योंकि ठीक जिस प्रकार नया आकाश और नई पृथ्वी जो मैं बनाने पर हूं मेरे सम्मुख बनी रहेगी,” याहवेह की यही वाणी है, “उसी प्रकार तुम्हारा वंश और नाम भी बना रहेगा. 23यह ऐसा होगा कि एक नये चांद से दूसरे नये चांद के दिन तक और एक विश्राम दिन से दूसरे विश्राम दिन तक सभी लोग मेरे सामने दंडवत करने आएंगे,” यह याहवेह का वचन है. 24“तब वे बाहर जाएंगे तथा उन व्यक्तियों के शवों को देखेंगे, जिन्होंने मेरे विरुद्ध अत्याचार किया था; क्योंकि उनके कीड़े नहीं मरेंगे और उनकी आग कभी न बुझेगी, वे सभी मनुष्यों के लिए घृणित बन जाएंगे.”