Akuapem Twi Contemporary Bible

Amos 3:1-15

Wɔfrɛ Nnansefo Tia Israel

1Muntie saa asɛm a Awurade aka atia mo yi, Israelfo, nea etia abusua a miyii wɔn fii Misraim no nyinaa:

2“Mo nko ara na mayi mo

wɔ mmusua a ɛwɔ asase so nyinaa mu;

enti mɛtwe mo aso

wɔ mo bɔne nyinaa ho.”

3Nnipa baanu betumi abɔ mu anantew,

wɔ bere a wɔnyɛɛ nokoro ana?

4Gyata bobɔ mu wɔ ɔdɔtɔ ase

wɔ bere a onhuu hanam biara ana?

Ɔbobɔ mu wɔ ne tu mu

wɔ bere a ɔnkyeree hanam biara ana?

5Anomaa bɛtɔ afiri mu wɔ fam

wɔ baabi a wonsum afiri ana?

Afiri huan konkɔn hɔ wɔ

bere a enyii aboa ana?

6Sɛ wɔhyɛn torobɛnto wɔ kuropɔn mu a

nnipa no ho mpopo ana?

Sɛ atoyerɛnkyɛm ba kuropɔn bi mu a

ɛnyɛ Awurade na ɔyɛe ana?

7Ampa ara, Otumfo Awurade nyɛ biribi

a ɔnna ne nhyehyɛe adi

nkyerɛ nʼAsomafo adiyifo no.

8Gyata no abobɔ mu,

hena na onnsuro?

Otumfo Awurade akasa,

hena na ɔrenhyɛ ho nkɔm?

9Mompae mu nka nkyerɛ Asdod aban

ne Misraim aban:

“Mommoaboa mo ho ano wɔ Samaria mmepɔw so;

hwɛ basabasayɛ a ɛwɔ no so

ne nhyɛso a ɛwɔ ne nkurɔfo mu.”

10“Wonnim sɛnea wɔyɛ nea eye,”

sɛnea Awurade se ni.

“Wɔde nneɛma a wɔafow ne nea wɔawia

sie wɔ wɔn aban mu.”

11Ɛno nti, sɛɛ na Otumfo Awurade se,

“Ɔtamfo bi betwiw afa mo asase no so;

Obebubu mo bammɔ agu,

na wɔafow mo aban.”

12Nea Awurade se ni:

“Sɛnea oguanhwɛfo gye

anan abien nnompe anaa aso sin pɛ

fi gyata anum no,

saa ara na wobegye Israelfo nkwa,

wɔn a wɔtete wɔn mpa ntwea so wɔ Samaria,

ne wɔn a wɔdeda nkongua pa mu wɔ Damasko no.”

13“Tie eyi, na di adanse tia Yakobfi,”

sɛnea Awurade, Asafo Awurade Nyankopɔn se ni.

14“Da a mɛtwe Israel aso wɔ ne nnebɔne ho no,

mɛsɛe afɔremuka a ɛwɔ Bet-El;

wobetwitwa afɔremuka no mmɛn

na abu ahwe fam.

15Medwiriw awɔwbere mu ofi

ne ahuhurubere mu ofi agu;

na afi a wɔde asonse adura ho no wɔbɛsɛe no

na afi akɛse no nso wobebubu agu,”

sɛnea Awurade se ni.

Hindi Contemporary Version

आमोस 3:1-15

इस्राएल के विरुद्ध गवाहों को बुलाना

1हे इस्राएलियो, सुनो यह वह संदेश है, जिसे याहवेह ने तुम्हारे विरुद्ध कहा है—पूरे वंश के विरुद्ध जिसे मैंने मिस्र देश से बाहर निकाल लाया है:

2“केवल तुम हो जिसे मैंने

पृथ्वी के सब कुलों में से चुना है;

तब मैं तुम्हारे सब पापों के लिये

तुम्हें दंड दूंगा.”

3क्या यह संभव है कि बिना सहमति के

दो व्यक्ति एक साथ चलें?

4क्या सिंह वन में शिकार के

दिखे बिना दहाड़ता है?

क्या वह अपनी मांद में से

कुछ पकड़े बिना गुर्राता है?

5क्या कोई पक्षी भूमि पर बिना चारा डाले

बिछाए गये जाल की ओर झपटेगा?

क्या भूमि पर से फंदा अपने आप उछलता है

जब उसमें कुछ न फंसा हो?

6जब तुरही का आवाज से नगर में चेतावनी दी जाती है,

तो क्या लोग डर से नहीं कांपते हैं?

जब किसी नगर पर विपत्ति आती है,

तो क्या यह याहवेह की ओर से नहीं होता?

7निश्चित रूप से प्रभु याहवेह अपने सेवक नबियों पर

अपनी योजना प्रकट किए बिना

कुछ भी नहीं करते.

8जब सिंह की गरजना सुनाई देती है—

तो कौन है, जो भयभीत न होगा?

प्रभु याहवेह ने कहा है—

तो कौन है, जो भविष्यवाणी न करेगा?

9अशदोद के राजमहलों में

और मिस्र देश के राजमहलों में यह घोषणा की जाए:

“शमरिया के पर्वतों पर एकट्ठे हो जाओ;

और उसके बीच हो रहे शोरगुल

और उसके लोगों पर हो रहे अत्याचार पर ध्यान दो.”

10“वे सही काम करना जानते ही नहीं,” यह याहवेह का कहना है,

“उनके लूटे और छीने गये माल को

उनके राजमहलों में किसने इकट्ठा किया है.”

11तब प्रभु याहवेह का यह संदेश है:

“एक शत्रु तुम्हारे देश को घेर लेगा,

वह तुम्हारे भवनों को गिरा देगा

और तुम्हारे राजमहलों को लूटेगा.”

12याहवेह का यह कहना है:

“जिस प्रकार चरवाहा छुड़ाने के प्रयास में सिंह के मुंह से

सिर्फ पैर की दो हड्डी या कान का एक टुकड़ा को ही बचा पाता है,

उसी प्रकार से वे इस्राएली, जो शमरिया में निवास करते हैं,

ऐसे बचाए जायेंगे, जैसे पलंग का सिरहाना

और बिस्तर से कपड़े का एक टुकड़ा.”

13“यह बात सुनो और याकोब के घराने विरुद्ध में कहो,” प्रभु याहवेह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर की यह घोषणा है.

14“जिस दिन मैं इस्राएल को उसके पापों के लिए दंड दूंगा,

मैं बेथ-एल की वेदियों को नष्ट कर दूंगा;

वेदी के सींग जो वेदी की संरचना का अंग हैं,

काट दिए जाएंगे और वे भूमि पर गिर पड़ेंगे.

15मैं शीतकालीन भवन

और साथ में ग्रीष्मकालीन भवन को गिरा दूंगा;

वे भवन, जो हाथी-दांत से सजाए गये हैं, नाश किए जायेंगे

और हवेलियों को नष्ट कर दिया जाएगा,”

यह याहवेह का कहना है.